बिहार में कोरोना के कहर के कारण तालाबंदी की गई है। लोग बहुत ही परेशान है कोरोना के कारण किसी तरह का रोजगार नहीं चल रहा है। इसी तरह से परेशानियों को देखते हुए बिहार सरकार ने युवाओं के लिए फैसला लिया है। कैबिनेट से स्वीकृत हुई मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना और मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना को 1 जून 2021 से लागू करने की तमाम तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।


बिहार के युवकों और युवतियों में उद्यमिता को बढ़ावा देने के मकसद से अभ्यर्थियों के आवेदन और उसके निष्पादन के लिए ऑनलाइन पोर्टल बनाने का कार्य पूरा कर लिया गया है। अब युवाओं के लिए रोजगार के अवसर खुलेंगे। इसके अलावा बिहार में उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए पहले से चल रही दो योजनाओं (मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अति पिछड़ा वर्ग उद्यमी योजना) के तहत भी नए सिरे से आवेदन मंगाए जा रहे हैं।


युवक-युवतियां सरकारी सहायता प्राप्त कर स्वरोजगार शुरू करने या उद्योग लगा सकते हैं। इन सभी चार योजनाओं को मिलाकर बिहार के सभी वर्ग के युवा-युवतियों के लिए अधिकतम 10 लाख रुपये तक का लोन दिया जाएगा वो भी बिना किसी ब्याज या सिर्फ 1 प्रतिशत ब्याज पर सरकार की तरफ से मुहैया कराया जाएगा। यह योजना युवाओं के लिए और नए उद्यमियों के लिए बहुत बड़ा अवसर होगा और आत्मनिर्भर बिहार के लक्ष्य की दिशा में मील का पत्थर साबित होगी।