पूर्व माओवादी एवं वर्तमान में पश्चिम बंगाल सत्तारूढ तृणमूल कांग्रेस प्रदेश समिति के नेता छत्रधर महतो को रविवार राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक टीम ने गिरफ्तार कर लिया। जिन पर एक मार्क्सवादी कम्युनिस्ट नेता (माकपा) नेता की हत्या करने और एक एक्सप्रेस यात्री ट्रेन में विस्फोट में मास्टरमाइंड होने का आरोप लगा है। आधिकारिक सूत्रों ने आज यह जानकारी दी है। 

महतो (55) पर हाल ही में दांत दर्द के कारण एनआईए के कई समन नजरअंदाज करने का आरोप है। उन्हें अपने लालगढ़ गांव के इलाके में देखा गया और 11 साल में पहली बार उन्हें घेर कर आज केंद्रीय एजेंसी एजेंसी ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पिछले साल जेल से अपनी रिहाई के बाद महतो तृणमूल की पुलिस के एक पूर्व संयोजक संत्राश विरोधी जनसाधारण समिति ( पुलिस के कथित अत्याचार के खिलाफ पीपुल्स कमेटी) में शामिल हुए और सत्तारूढ़ दल की कोर कमेटी के सदस्य बने। 

वह नवंबर 2008 में राजधानी एक्सप्रेस में माओवादियों के सालबोनी विस्फोट के बाद खबरों के बाद सुर्खियों में आये और वर्ष 2009 में उन पर माकपा नेता ही हत्या का आरोप लगा था। आधिकारिक सूत्रों में बताया कि गिरफ्तार नेता को कोलकाता लाया जा रहा था और बाद में आज रिमाण्ड पर लेने के लिए उन्हें बैंकशाल अदालत में पेश किया गया। उन्होंने कहा कि एनआईए ने 16, 18 और 22 मार्च तथा 26 मार्च को महतो को तलब किया था, लेकिन उसने सभी समन को नजरअंदाज किया था।