अभी न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के बीच दूसरा टेस्ट मैच क्राइस्टचर्च में खेला जा रहा है। इस मैच के पहले मुकाबले में हार के बाद कीवी टीम इस मुकाबले को जीतकर सीरीज ड्रॉ पर खत्म करना चाहेगी। वहीं बांग्लादेशी टाइगर्स की नजरें न्यूजीलैंड के खिलाफ पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने पर होंगी।

हाल ही में इस दूसरे मुकाबले के पहले दिन एक दिलचस्प वाकया देखने को मिला। नौवें ओवर में बांग्लादेशी इबादत हुसैन की गेंद पर अंपायर ने न्यूजीलैंड के कप्तान टॉम लैथम को दो बार एलबीडब्ल्यू आउट दे दिया। लेकिन दोनों ही मौकों पर लैथम ने रिव्यू की मदद से अपना विकेट बचा लिया। लैथम ने इस मौके का फायदा उठाते हुए शानदार शतक जड़ दिया।

उस ओवर की दूसरी गेंद पर टॉम लैथम बॉल को खेलने के प्रयास में चूक गए और बॉल पैड पर जा लगी। बांग्लादेशी खिलाड़ियों की अपील के बाद वायने नाइट्स ने उंगली खड़ी कर दी। लैथम को विश्वास था कि वह आउट नहीं हैं और उन्होंने डीआरएस का सहारा लिया। बॉल ट्रैकिंग से पता चला कि गेंद लेग स्टंप को मिस करती, ऐसे में कीवी कप्तान आउट होने से बच गए।

फिर ओवर की पांचवीं गेंद पर एकबार फिर गेंद लैथम के पैड पर जा लगी। लैथम ने गेंद को ऑन साइड में खेलने का प्रयास किया था, लेकिन वह चूक गए। मेहमान टीम की अपील के बाद अंपायर ने लैथम को आउट करार दिया। ऐसे में लैथम ने डीआरएस लेने में कोई देरी नहीं की। अबकी बार बॉल ट्रैकिंग में दिखाई दिया कि गेंद विकेट के ऊपर से चली जाती। नतीजतन वायने नाइट्स को अपना फैसला बदलना पड़ा और लैथम बाल-बाल बच गए।

माउंट माउंगनुई में खेले गए पहले टेस्ट मैच में बांग्लादेश ने न्यूजीलैंड को आठ विकेट से मात दी थी। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में बांग्लादेश की न्यूजीलैंड के खिलाफ यह पहली जीत रही। इससे पहले बांग्लादेश को न्यूजीलैंड के खिलाफ 12 टेस्ट मैचों में हार मिली थी, जबकि 3 टेस्ट ड्रॉ रहे थे। बांग्लादेशी टीम की यादगार जीत में तेज गेंदबाज इबादत हुसैन का सबसे अहम योगदान रहा था। इबादत ने न्यूजीलैंड की दूसरी पारी में छह बल्लेबाजों को आउट किया था।