सरकार ने भारत-म्यांमार अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मणिपुर सेक्टर में लगे खम्भों को हटाये जाने की रिपोर्टों का खंडन करते हुए कहा है कि ये पूरी तरह निराधार हैं। 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया , 'हमने इस तरह की मीडिया रिपोर्ट देखी हैं जिनमें कहा गया है कि भारत-म्यांमार अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मणिपुर सेक्टर में लगे खम्भों को हटाने की बात कही गयी है। ये रिपोर्ट पूरी तरह से निराधार और बिना तथ्यों की हैं।'

उन्होंने जोर देकर कहा कि अंतरराष्ट्रीय सीमा का यह सेक्टर निर्धारित है और इसे लेकर किसी तरह का असमंजस नहीं है। प्रवक्ता ने कहा कि भारत और म्यांमार के सर्वेक्षण विभागों ने हाल ही में संयुक्त रूप से सर्वेक्षण का काम किया था।

इस दौरान पहले से ही निर्धारित खम्भा नम्बर 81 तथा 82 के बीच में और खम्भे लगाने पर सहमति बनी थी। उन्होंने कहा कि यह निर्णय दोनों तरफ रहने वाले स्थानीय निवासियों को अंतर्राष्ट्रीय सीमा की सटीक स्थिति की जानकारी देने के लिए लिया गया है।

मणिपुर सरकार इस समूचे काम में शामिल रही है। उन्होंने कहा कि यह कार्य भारत-म्यांमार सीमा समझौता 1967 के प्रावधानों के तहत किया गया है और दोनों देश इस समझौते के प्रति वचनबद्ध हैं।