असम के बरपेटा जिले में एक नवजात बच्ची का अपहरण करके 30 हजार रूपए में बेचने की घटना सामने आई है।  हालांकि घटना की खबर सामने आने के बाद बरपेटा और हजो पुलिस ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए बच्ची को ढूंढ निकाला तथा आरोपियों को भी पकड़ लिया। बताया गया है कि भमूड़ा इलाके में स्थित एक घर में 15 दिन की नवजात बच्ची अपनी मां के साथ घर पर सो रही थी। उसी समय हसनूर अली नाम के पड़ोसी ने उसका अपहरण कर लिया।

हालांकि बच्ची को खोया हुआ पाकर परिवार वालों ने बरपेटा पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस ने बच्ची को बचाने के लिए एक अभियान चलाया। पुलिस को पता चला कि इमाम अली नाम का एक व्यक्ति अपने ड्राइवर के साथ आया और बच्ची को उठाकर ले गया था। इमाल किडनेप की हुई बच्ची को हजो के रहने वाले एक दंपत्ति को बेचने वाला था।

पुलिस ने बिना समय बर्बाद किए हजो में अभियान चलाया जिसके तहत पुलिस किडनेपर को पकड़ने के लिए इलाके में चारों तरफ फैल गई। आखिरकार पूरी रात गहन तलाशी अभियान के तहत खुपानीकुची इलाके से अली को पकड़ लिया गया। बरपेटा एडिशनल पुलिस अधीक्षक पंकज काकती ने कहा कि हरनूर और इमाम ने नवजात बच्ची को हजो के रहने वाले एक दंपत्ति को 30 हजार रूपए में बेचने की योजना बनाई थी। हालांकि पुलिस ने दंपत्ति की पहचार अबिबुर हक व नूरजहां परबीन के रूप में की है। ये दंपत्ति भी बच्ची को मेघालय के शिलोंग में बेचने वाले थे, लेकिन गिरफ्तार कर लिए गए। हालांकि पुलिस अब इस पूरे खेल के मास्टर माइंड की तलाश कर रही है।