राफेल लड़ाकू विमान सौदा मामला एक बार फिर से चर्चा में है। राफेल सौदे को लेकर जांच के लिए फ्रांस में एक जज की नियुक्ति की गई है। इसके बाद अब भारत की सियासत गरमा गई है। फ्रांस द्वारा न्यायिक जांच शुरू करने के बाद कांग्रेस पार्टी ने राफेल सौदे की जेपीसी जांच की मांग कर दी है। 

इस बीच राहुल गांधी ने बीजेपी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि- चोर की दाढ़ी, राफेल स्कैम! कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने राफेल सौदे को लेकर कहा कि फ्रांस द्वारा न्यायिक जांच के आदेश देने के बाद राहुल गांधी की बात सही साबित हुई। हम राफेल खरीद की जेपीसी जांच की मांग करते हैं। प्रधानमंत्री को बताना चाहिए कि उनकी सरकार फ्रांसीसी जांच के आलोक में जेपीसी जांच की अनुमति कब देगी?

सुरजेवाला ने कहा, "बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार', 'देशद्रोह', 'राजकोष को नुकसान' से जुड़े 'राफेल घोटाले' का घिनौना सच आखिरकार बेनकाब हो गया है। कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी आज सही साबित हुए हैं।कांग्रेस ने एक बार फिर दोहराया कि राफेल सौदे में घूस दी गई थी। कांग्रेस ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के उस बयान का हवाला दिया, जिसमें कहा गया था रिलायंस कंपनी (DRAL) को डील में साझेदार बनाने के फैसला भारत सरकार का था, इसीलिए ऐसा करने के सिवा उसके पास और कोई ऑप्शन नहीं था।

कांग्रेस के आरोपों पर बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि कांग्रेस झूठ और मिथकों का पर्याय है। आज उसने फिर से राफेल सौदे के बारे में झूठ बोला है, अगर किसी देश का (फ्रांस) एनजीओ (शेरपा) किसी आरोप के खिलाफ शिकायत करता है और उसका वित्तीय अभियोजन निकाय उसके अनुसार जांच का आदेश देता है, तो इसे भ्रष्टाचार के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। दरअसल, फ्रांस ने अरबों डॉलर के राफेल सौदे की जांच के आदेश दिए हैं। इसके लिए एक जज की नियुक्ति के आदेश दिए गए हैं। फ्रांस की पब्लिक प्रॉसिक्यूशन सर्विसेज की फाइनेंशियल क्राइम ब्रांच (PNF) ने कहा कि इस सौदे को लेकर लगाए गए भ्रष्टाचार और पक्षपात के आरोप की जांच की जाएगी।

गौरतलब है कि फ्रांसीसी वेबसाइट मीडियापार्ट का कहना है कि फ्रांसीसी जांच एजेंसी राफेल सौदे में हुई 'कथित घूस' को लेकर जारी संदेहों को दबाना चाहती है। हालांकि, दसाल्‍ट ने इन आरोपों का खंडन किया और दावा किया कि राफेल डील में कोई गड़बड़ी नहीं हुई। भारत की मोदी सरकार ने भी इस सौदे में किसी भी प्रकार के भ्रष्‍टाचार का लगातार खंडन किया है, लेकिन अब कांग्रेस एक बार फिर से बीजेपी सरकार पर हमलावर हो गई है।