कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले के बाद राज्य में फिर हिजाब विवाद से जुड़ा मामला सामने आया है। यहां उप्पिनंगाडी में 231 मुस्लिम छात्रों ने शासकीय पीयू कॉलेज की परीक्षा में बैठने से इनकार कर दिया। खबर है कि शुक्रवार को कॉलेज ने कुछ छात्राओं को कहा था कि वे हिजाब पहनकर परीक्षा में शामिल नहीं हो सकते। इसके बाद छात्र-छात्राओं ने कैंपस में जमकर प्रदर्शन किया। 

यह भी पढ़े : भगवंत मान ने कर दिया बड़ा खेला , इस धाकड़ खिलाड़ी को बनाया राज्यसभा चुनाव के लिए आप पंजाब का उम्मीदवार


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कॉलेज ने हाईकोर्ट के आदेश का हवाला दिया था। पीयू शइक्षा के उप निदेशक ने कहा कि कोर्ट के आदेश का उल्लंघन करने वाला परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेगा। मंगलवार को उच्च न्यायालय ने शैक्षणिक संस्थानों में राज्य सरकार के आदेश को बरकरार रखा था। कोर्ट ने हिजाब प्रतिबंध के खिलाफ खड़ी हुई 6 छात्राओं की याचिका को खारिज कर दिया था।

यह भी पढ़े : राज्यसभा चुनाव: बीजेपी ने नगालैंड की अकेली सीट के लिए फांगनोन कोन्याक को उम्मीदवार बनाया


मंगलुरु से 50 किमी दूर मौजूद उप्पिनंगाडी में कन्नड़ परीक्षा आयोजित हुई थी। यहां कुछ मुस्लिम महिलएं हिजाब पहनकर पहुंची थी और कॉलेज ने उन्हें परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी। इसके चलते कैंपस में तनाव शुरू हो गया और यहां करीब 250 लोगों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। प्रदर्शन करने वालों में पुरुष भी शामिल थे और महिलाओं को हिजाब पहनकर परीक्षा में बैठने की अनुमति देने की मांग कर रहे थे।

खबर है कि क्षेत्र के मुस्लिम नेताओं ने छात्रों को समझाने की भी कोशिश की, लेकिन कई मुस्लिम छात्र परीक्षा में शामिल हुए बगैर ही लौट गए।

यह भी पढ़े : होली के जश्न में पड़ा भंग , होली मनाने के बाद नहाने गए तीन किशोरों की डूबने से मौत


कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दे रही याचिकाओं पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट बुधवार को तैयार हो गया है। खबर है कि होली की छुट्टी के बाद इन याचिकाओं पर सुनवाई की जाएगी। मुख्य न्यायाधीश एनवी रमण की अगुवाई वाली बेंच ने छात्रों की तरफ से पेश हुए वकील संजय हेगड़े की इस दलील पर गौर किया कि आगामी परीक्षाओं के चलते मामले में तत्काल सुनवाई की जरूरत है।