अब पाकिस्तान और चीन कांपेगे क्योंकि भारतीय सेना में बड़ी संख्या में  महिला अफसर शामिल होने जा रही है। दरअसल, केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि मई 2022 में लड़कियों को भी राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में शामिल करने की अधिसूचना जारी हो जाएगी। अब तीनों सेनाओं के विशेषज्ञ महिला कैडेट के चयन के मापदंड तैयार करने में लगे हैं। सलेक्ट होने वाली लड़कियों की ट्रेनिंग के पैमानों पर भी निर्णय लिया जा रहा है। साथ ही, महिला कैडेट को अकादमी में रखने के लिए बुनियादी ढांचे और सपोर्ट स्टाफ की आवश्यकताओं का भी आकलन किया जा रहा है।
8 सितंबर को हुई सुनवाई में केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उसने लड़कियों को भी NDA के ज़रिए सेना में कमीशन देने का निर्णय लिया है। अब उसी के बारे में हलफनामा दाखिल किया गया है।

रक्षा मंत्रालय की तरफ से दाखिल हलफनामे में कहा गया है कि तीनों सेनाएं NDA के माध्यम से महिला अधिकारियों की नियुक्ति के लिए तैयार हैं। उससे पहले आवश्यक मानक तय किए जा रहे हैं। हलफनामे में बताया गया है कि 10+2 की परीक्षा पास करने वाले साढ़े 16 से साढ़े 19 साल के कैडेट भर्ती किए जाते हैं। सिर्फ शारीरिक रूप से फिट कैडेट ही चुने जाते हैं। लड़कों के शारीरिक मापदंड तय हैं। लड़कियों के लिए मापदंड तय करने पर चर्चा चल रही है। उसी तरह यह भी देखा जा रहा कि लड़कियों के लिए ट्रेनिंग के तरीके में किस तरह का बदलाव किया जाए जो उनके लिए सही हो और सेना की ज़रूरतों को भी पूरा करता हो।

मंत्रालय ने बताया है कि अभी यह भी तय किया जाना है कि सेना के किस अंग में कितनी महिला अफसर के लिए जगह होगी। फिलहाल NDA में कैडेट को केबिनों में रखा जाता है। महिला कैडेट के लिए केबिन के निर्माण, उनकी निजता की ज़रूरतों का ध्यान रखते हुए दूसरे बुनियादी ढांचों को बनाने पर भी विचार चल रहा है। लड़कियों की ट्रेनिंग के लिए ज़रूरी सहायक स्टाफ को लेकर भी निर्णय लिया जाना है।

अब यूपीएससी मई 2022 में लड़कियों से भी NDA प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन आमंत्रित करते हुए अधिसूचना जारी कर देगा। यानी अगले साल लड़कियां भी NDA प्रवेश परीक्षा दे सकेंगी। उसे पास करने वाली और शारीरिक मापदंड पूरे करने वाली लड़कियों को अकादमी में दाखिला मिल सकेगा।