ओडिशा में बोलनगीर जिले के खापराखोल ब्लॉक के पास जुनानीबहल इलाके में वामपंथी उग्रवादियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच हुई गोलीबारी की एक घटना में एक माओवादी (Naxalite killed) की मौत हो गई है। पुलिस ने माओवादी की पहचान शंकर के रूप में की है, जो वामपंथी चरमपंथियों (left wing extremist) के बोलांगीर-बारगढ़-महासमुंद डिवीजन का सदस्य है। 

पुलिस सूत्रों ने कहा है कि इलाके में कुछ उग्रवादियों (extremists) के मौजूद होने की सूचना मिलने पर कार्रवाई करते हुए बोलनगीर पुलिस और जिला स्वैच्छिक बल (डीवीएफ) की एक टीम ने शनिवार रात एक संयुक्त तलाशी अभियान की शुरुआत की थी। इस अभियान में एसीएम रैंक का एक माओवादी (Maoist) मारा गया है। मौके से हथियार, गोला-बारूद और माओवादियों से संबंधित कुछ आपत्तिजनक सामग्री जब्त की गई है।

पुलिस महानिरीक्षक ऑपरेशन और उप महानिरीक्षक एसआईडब्ल्यू के साथ बोलनगीर जिले का दौरा करने वाले ओडिशा पुलिस महानिदेशक अभय ने आज माओवादियों से पुलिस के सामने आत्मसमर्पण करने की अपील की। अभय ने कहा कि पुलिस को शक है कि तलाशी अभियान के दौरान इलाके में छह से आठ नक्सली थे। माओवादियों (Maoist) ने पहले सुरक्षाकर्मियों पर फायरिंग (Maoist Police Encounter) की और सुरक्षाकर्मियों ने इस पर जवाबी फायरिंग की। गोलीबारी में एक माओवादी की मौत हो गई है, जबकि अंधेरे का फायदा उठाकर कुछ मौके से भागने में सफल रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि इलाके में तलाशी अभियान जारी है। महानिदेशक ने तलाशी अभियान में भाग लेने वाली पुलिस टीम की सराहना करते हुए कहा कि उन्हें सम्मानित करने के लिए उचित कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में माओवादी गतिविधियों में कमी आई है, लेकिन बोलनगीर और बारागढ़ा में अभी भी इनकी उपस्थिति है तथा माओवादी गतिविधियों का मुकाबला करने के लिए इन क्षेत्रों में पर्याप्त सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया है।