नासा (NASA) क्षुद्रग्रह से टकराने (asteroid defense mission) के लिए डिजाइन किए गए पहले अंतरिक्ष यान को 24 नवंबर को लॉन्च करेगा। इसे डबल क्षुद्रग्रह पुनर्निर्देशन परीक्षण (डार्ट) मिशन नाम दिया गया है। इससे आने वाले समय में अंतरिक्ष में होने वाली किसी भी आपदा को रोकने के लिए उपयोग में लाई जाने वाली तकनीकों का परीक्षण करने में मदद मिलेगी। 

डबल क्षुद्रग्रह पुनर्निर्देशन परीक्षण (डार्ट) मिशन दो-क्षुद्रग्रह प्रणाली डिडिमोस (asteroid defense mission) के छोटे क्षुद्रग्रह से टकराने और इसके परिणामस्वरूप पैदा होने वाली ऊर्जा से इसके मार्ग को बदलने के लिए तैयार है। डिम्पोर्फोस (dimorphos) के नाम से जाने जाने वाले छोटे क्षुद्रग्रह का व्यास लगभग 160 मीटर (530 फीट) है, जबकि बड़े का आकार लगभग 780 मीटर है। इनसे धरती को कोई खतरा नहीं है। 

डार्ट का आकार डिम्पोर्फोस (dimorphos) से सैकड़ों गुना छोटा है और यह 24,000 किलोमीटर प्रति घंटे (14,900 मील प्रति घंटे) की रफ्तार से इनसे टकराएगा। हालांकि इस मिशन की प्रमुख संचालक नैन्सी चाबोट के अनुसार, टक्कर की योजना क्षुद्रग्रह (asteroid)  को पूरी तरह से नष्ट करने के लिए नहीं, बल्कि इसकी कक्षा को एक डिग्री तक बदलना है। डार्ट को अमेरिका के कैलिफोर्निया राज्य में वैंडेनबर्ग वायु सेना बेस से स्पेसएक्स फाल्कन 9 रॉकेट पर लॉन्च किया जाएगा।