नागालैंड में 27 फरवरी को चुनाव होने वाले हैं और इसी को लेकर राज्य में सियासी पारा चढ़ने लगा है लेकिन इससे पहले राज्य में कई हिंसक घटनाएं भी सामने आ रही है।

नगालैंड के दो प्रमुख राजनीतिक दलों के बीच हुए संघर्ष में एक युवक की मौत हो गई। इस घटना के बाद एनडीपीपी ने एनपीएफ के चार समर्थकों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है।

पुलिस सूत्रों ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए बताया कि सत्तारूढ़ नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) और नई बनी नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) समर्थकों के बीच बृहस्पतिवार को मोकोकचुंग जिले के तुली शहर में हुई हिंसक झड़प के दौरान लोंगशाक कोन्याक नामक एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल युवक ने अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में दम तोड़ दिया।


एनडीपीपी ने इस मामले में एनपीएफ के चार समर्थकों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है। पुलिस फिलहाल इस मामले की जांच कर रही है। अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।


गौरतलब है कि नागालैंड में आगामी 27 फरवरी को विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव जीतने के लिए तमाम राजनीतिक दलों ने अपनी एड़ी-चोटी का जोर लगा रखा है। इस बार उम्मीदवारों के हलफनामे के विश्लेषण में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। हलफनामे में पता चला है कि चुनाव लड़ रहे करीब 59 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं, जिनमें 38.92 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ जदयू के रामोंगो लोथा सबसे अमीर उम्मीदवार हैं।


बता दें नागालैंड को पूर्ण राज्य का दर्जा मिले 54 साल बीत चुके हैं, लेकिन अब तक 12 विधानसभाएं देख चुके नागालैंड के नागरिकों को अभी भी अपनी पहली महिला विधायक को देखना बाकी है। इस विधानसभा चुनाव में 60 सीटों पर कुल 195 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। जिनमें इस बार 5 महिला उम्मीदवार भी शामिल हैं।