नागालैण्ड पुलिस ने शराब और प्रतिबंधित ड्रग्स की तस्करी के आरोप में पिछले 18 महीनों में 560 लोगों को गिरफ्तार किया है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने इन 18 महीनों के दौरान 9711 किलो गांजा,63.75 किलो अफीम, 12 ग्राम हेरोइन, 4.5 किलो ब्राउन शुगर, 1 किलो याबा, 5, 27, 6265 स्पेसमो प्रोक्सिवोन कैप्सूल, खांसी की दवा की 12, 297 बोतलें, भारत में बनी विदेशी शराब की 2,02,919 बोतलें बरामद की।

कोहिमा में ड्रग एब्यूज एंड इलिसिट ट्रैफिकिंग के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस पर बोलते हुए आईजी (क्राइम) के.मेरो ने यह जानकारी दी। आईजीपी ने कहा कि जो बरामदगी की गई है वह तो सिर्फ छोटा सा हिस्सा है, राज्य में इससे ज्यादा खेप आ रही है लेकिन हमारे पास न तो मैनपावर और न ही गैजेट्स। हमारे पास इस तरह के मैटेरियल की पहचान के लिए नॉलेज भी नहीं है। मेरो ने कहा कि गोल्डन ट्रायंगल खासतौर पर म्यांमार से नजदीक  होने के कारण ट्रैफिकर्स नागालैण्ड को मुख्यत: वाहक मार्ग के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

अब यह कानून लागू करने वाली एजेंसियों का दायित्व है कि वे न केवल ड्रग ट्रैफिकर्स को पकड़कर प्रीवेंटिव वर्क का बीड़ा उठाएं बल्कि ड्रग एब्यूज के प्रभावों के बारे में लोगों को सेंसेटाइज करें। आईजीपी ने कहा कि ट्रैफिकिंग के लिए राज्य का न केवल रूट के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है बल्कि राज्य के स्थानीय लोग भी धीरे धीरे भांग की खेती कर रहे हैं। इस ट्रेंड को तुरंत एड्रेस किए जाने की जरूरत है। समाज के सभी वर्गों को इसे गंभीरता से लेना होगा।

नागालैण्ड स्टेट एड्स कंट्रोल सोसायटी के प्रोजेक्ट डायरेक्ट गानसिमेरेन ने कहा कि ड्रग ट्रैफिकिंग को  दो मोर्चों पर टैकल करने की जरूरत है। कानून लागू करने वाली एजेंसियों को सप्लाई चैन को कम करना होगा। सरकारी और एनजीओ लेवल पर लोगों को ड्रग एब्यूज के बुरे प्रभावों के बारे में जागरुक कर एब्यूजिव ड्रग की सोशल डिमांड को कम करना। कृपा फाउंडेशन के निदेशक ए.मेरे ने राज्य सरकार से नागालैण्ड स्टेट सब्स्टेंस एब्यूज प्रिवेंशन एंड ट्रीटमेंट पॉलिसी 2016 को लागू करने का अनुरोध किया है। विधायक डॉ एन निकी किरे ने सुझाव दिया है कि सभी विधायकों को ड्रग एब्यूज की समस्या के बारे में ब्रीफ किए जाने की जरूरत है। साथ ही राज्य के सभी जिलों में विषहरण व ड्रग ट्रीटमेंट सेंटर्स स्थापित करने के लिए राज्य सरकार के सपोर्ट की जररूत है।