मेघालय और नगालैंड की 60-60 विधानसभा सीटों के लिए 27 फरवरी को मतदान कराए जाएंगे, जबकि वोटों की गिनती 3 मार्च को होगी, चुनावी राज्यों मेघालय और नगालैंड की असेंबली का कार्यकाल 6 मार्च को पूरा हो रहा है।


राज्य में इस समय 3 पार्टियों नागालैंड पीपुल्स फ्रंट, भाजपा और जद (यू) के गठबंधन की सरकार है। राज्य में नशाबंदी के बावजूद विभिन्न दलों द्वारा लोगों के लिए दावतों में खूब शराब परोसी जा रही है तथा वोटों की खरीद का सिलसिला भी जारी है। लोग इसे पांच वर्ष के बाद मिलने वाला बोनस ही समझते हैं और एक वोट के लिए 2-3 हजार रुपए तक दिए जाने की चर्चा है।

जब भी चुनाव होते हैं तो नागालैंड के पड़ोसी असम के कार्बी अंगलोंग जिले के बोरलैंगरी-1 गांव में बसे हुए सैंकड़ों नागा परिवारों के सदस्य 8 से 12 घंटों तक की कठिन यात्रा तय करके नागालैंड में अपने पैतृक जिलों में मतदान करने पहुंचते हैं। अधिकांश मतदाता इतनी मशक्कत इसलिए करते हैं क्योंकि चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवार प्रत्येक परिवार को 10,000 से 15,000 रुपए तक की रकम पहले ही भेज देते हैं।

पुरुष प्रधान नागालैंड में 1963 से विधानसभा के चुनाव होते आ रहे हैं लेकिन अभी तक एक भी महिला 60 सदस्यीय सदन के लिए नहीं चुनी गई। यहां तक कि 2013 के विधानसभा चुनावों में महिलाओं के चुनाव में खड़ी होने को लेकर फसाद भी हो चुके हैं।

2013 के चुनावों में 2 महिलाओं ने नामांकन पत्र भरा था और इस बार 5 महिलाएं चुनाव लड़ रही हैं जिनमें एक निर्दलीय और 4 राजनीतिक दलों से संबंध रखती हैं। कुल 195 उम्मीदवारों में से 114 अर्थात 59 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति हैं और हर उम्मीदवार की औसत सम्पत्ति 3.76 करोड़ रुपए है। 52 उम्मीदवार 8वीं से 12वीं कक्षा तक पढ़े हैं तथा 3 अनपढ़ हैं। कांग्रेस ने शुरू में चुनावों के लिए 23 उम्मीदवारों की घोषणा की थी परंतु बाद में 5 उम्मीदवारों द्वारा नाम वापस ले लेने से अब इसके 18 उम्मीदवार ही रह गए हैं।

इसके साथ ही आपको बता दें कि नगालैंड की 60 सदस्यों वाली विधानसभा में 59 सीटों के लिए 27 फरवरी को वोटिंग है। राज्य की उत्तरी अंगामी सीट पर नेफ्यू रियो को निर्विरोध चुन लिया गया है नागालैंड सिर्फ एक ही सीट सामान्य है और 59 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए रिजर्व हैं।


राज्य में कुल वोटरों की संख्या 11,91,513 है इसके साथ ही नागालैंड के चुनाव मैदान में खड़े 59 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं, इनमें 38.92 करोड़ रुपए की संपत्ति के साथ जेडीयू के रामोंगो लोथा सबसे अमीर उम्मीवार हैं। जबकि नगा पिपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) की टिकट पर चुनाव लड़ रहे नगालैंड के मुख्यमंत्री टी आर जेलियांग की कुल संपत्ति 3.52 करोड़ रुपए है।