केंद्रिय गृहमंत्री पूर्वोत्तर परिषद की बैठक को लेकर गुवाहाटी के दो दिवसीय दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने नागकिरता संशोधन विधेयक लाने की बात कही थी। लेकिन उनके इस प्रस्ताव का नगालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो विरोध करते नजर आए। नेफ्यू ने कहा कि ‘बेहद विवादित’ नागरिकता (संशोधन) विधेयक को अगर केंद्र लागू करता है तो यह पूर्वोत्तर की जनसांख्यिकी को बदल देगा।

एनईडीए की बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में विधेयक का जोरदार विरोध करते हुए रियो ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों ने पहले संकल्प लिया था कि वे कानून को क्षेत्र को प्रभावित नहीं करने देंगे। उन्होंने कहा कि ‘‘ हमारा मानना है कि यह पूर्वोत्तर की जनसांख्यिकी को बदल देगा। हमें जमीनी हालात समझने की जरूरत है।’’ उन्होंने उम्मीद जताई कि शाह और केंद्र सरकार ‘हमें सुनेगी।’

रियो ने यह भी कहा कि नगा शांति समझौते पर बातचीत अंतिम चरण में है। उन्होंने कहा, ‘‘ हमें बहुत जल्द समाधान की उम्मीद है। हमने संयुक्त विधि समूह भी गठित किया है।’’ रियो ने नगालैंड के मुद्दे के मैत्रीपूर्ण समाधान के लिए क्षेत्र के सभी राज्यों का समर्थन भी मांगा, क्योंकि यह पूर्वोत्तर में सभी मुद्दों की जड़ है।