सैन्य तख्तापलट के बाद मनमर्जी करना शुरू कर दिया है। अब तक म्यांमार में सेना ने 320 लोगों की जान ले चुकी है। के लड़ाकू विमानों ने थाईलैंड की देश की सीमा के पास एक गाँव पर बमबारी की। बमबारी में कम से कम 3 नागरिकों की मौत हो गई और 8 अन्य लोग घायल हो गए। म्यांमार की सेना ने हवाई हमले किए, जिस दिन देश की सेनाओं ने अपने ‘सशस्त्र सेना दिवस’ मनाया था।

जिस गांव में बमबारी की गई, वह एक सशस्त्र जातीय समूह द्वारा नियंत्रित क्षेत्र है। करेन नेशनल यूनियन (KNU), एक सशस्त्र जातीय समूह दक्षिण-पूर्वी क्षेत्र को नियंत्रित करता है। KNU ने कहा कि "म्यांमार के सैन्य लड़ाकू विमानों ने सशस्त्र समूह द्वारा नियंत्रित क्षेत्र कावथोले पर हमला किया। कथोओली (करेन राज्य) में हवाई हमलों से गांवों में बम गिरने से 3 ग्रामीणों की मौत हो गई और 8 घायल हो गए "।

KNU ने कहा कि ब्रिगेड 5 बलों ने सेना के एक अड्डे पर हमला किया, जिसमें लेफ्टिनेंट-कर्नल सहित 10 सैनिकों की मौत हो गई, क्योंकि जूनता ने अपना वार्षिक सशस्त्र सेना दिवस मनाया था। KNU का कहना है कि यह उन सैकड़ों लोगों को पनाह दे रहा है जो हाल के हफ्तों में बढ़ती हिंसा के बीच केंद्रीय म्यांमार भाग गए हैं। अब तक म्यांमार में "सबसे खूनी दिन" था, क्योंकि बच्चों सहित 150 से अधिक लोग मारे गए थे।