जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में पुलिस ने बुधवार को एक क्षत-विक्षत शव बरामद किया है, जिसको लेकर संदेह है कि वह अगस्त 2020 में आतंकवादियों द्वारा कथित तौर पर मारे गए प्रादेशिक सेना (टीए) के जवान का है।

पुलिस ने यह पुष्टि करने के लिए शव की डीएनए मैपिंग करने का फैसला किया है कि क्या यह टीए सैनिक शाकिर मंजूर का है, जिसे अगस्त 2020 में आतंकवादियों द्वारा अगवा किया गया था और बाद में आतंकवादियों द्वारा मारे जाने की सूचना दी गई थी। 2 अगस्त, 2020 को 162 टीए बटालियन के राइफलमैन शाकिर मंजूर अपने परिवार के साथ ईद मनाने के लिए रेशीपोरा शोपियां में घर आए थे। वह ड्यूटी पर वापस रिपोर्ट करने के लिए अपनी कार चला रहे थे, जब वह लापता हो गये थे।

अगले दिन जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि शाकिर की जली हुई कार पड़ोसी कुलगाम जिले में मिली थी। आधिकारिक बयान में तब कहा गया था, ऐसा संदेह है कि आतंकवादियों ने सैनिक का अपहरण कर लिया है। तलाशी अभियान जारी है। एक पुलिस अधिकारी ने क्षत-विक्षत शव बरामद करने के बाद कहा कि हालांकि शव पहचान से परे है, फिर भी लापता टीए सिपाही के पिता का कहना है कि यह उनके बेटे का है।

अधिकारी ने कहा, हमने यह पता लगाने के लिए डीएनए सैंपलिंग कराने का फैसला किया है कि शव शाकिर का है या नहीं। कुलगाम जिले के मोहम्मदपोरा इलाके में एक बाग से क्षत-विक्षत शव बरामद किया गया है। पुलिस ने कहा कि यह एक बीएसएनएल टावर के पास एक नीले रंग की तिरपाल में लपेटा हुआ था और यह पहचान से परे था।