बिहार के दीघा में जमीनी विवाद को लेकर एक युवक को गोलियों से भून दिया गया। इस मामले में मृतक मोहम्मद सैफ के परिजनों ने पुलिस को भी कठघरे में खड़ा कर दिया है। परिजनों का आरोप है कि धमकी से परेशान सैफ ने पुलिस सुरक्षा की गुहार लगाई थी, लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हुई। उधर, बदमाशों ने उसे गोलियों से भून दिया। 

चार गोलियां दागी, लोगों ने किया हंगामा

बता दें कि एक बाइक पर सवार होकर आए तीन बदमाश उसे बातचीत के बहाने घर से बुलाकर ले गए और इसी बीच पहले पीछे से उसके सिर में गोली मारी, फिर कंधे और पैर में भी दो गोलियां दाग दीं। वारदात के बाद अपराधी हवाई फायरिंग करते हुए भाग गए। इससे नाराज लोगों ने शव रखकर सड़क जाम कर दिया। इस दौरान टायर भी जलाया। सूचना पर पहुंचे एएसपी विधि व्यवस्था स्वर्ण प्रभात ने पुलिस फोर्स के साथ कड़ी मशक्कत कर स्थिति को नियंत्रित किया। उधर, पुलिस की प्रारंभिक जांच में हत्या के मामले में बंटी नामक युवक नाम सामने आ रहा है।

तीन बदमाशों ने दिया घटना को अंजाम

छोटे भाई सादिक ने बताया कि मो. सैफ खगौल स्थित अपनी ससुराल में रहता था। बांस कोठी स्थित मकान पर भी उसका आना-जाना था। वह खगौल से दीघा स्थित घर आया था। शाम में वह भाई मो. सैफ के साथ बैठा था। तभी तीन बदमाश बाइक से आए। एक बदमाश बाइक लेकर घर से कुछ ही दूर पर खड़ा था और गमछे से अपना मुंह बांधे था। बाइक से उतर कर दो बदमाश उसके घर आए और दरवाजा खटखटाते हुए मो. सैफ को बाहर बुलाया। बाहर निकलने पर बदमाश मो. सैफ से बातचीत करते हुए आगे जा रहे थे। बाइक के नजदीक पहुंचने पर पीछे से एक बदमाश ने पिस्टल से मो. सैफ के सिर में गोली मार दी। गोली की आवाज सुनकर वह बाहर आया और शोर मचाते हुए मौके पर पहुंचा। इस बीच तीनों अपराधी बाइक से भाग निकले। आनन-फानन में सैफ को कुर्जी मोड़ स्थित निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

आर्थिक मुआवजे की मांग पर हंगामा

हत्या से गुस्साए लोग करीब चार बजे दीघा-गांधी मैदान सड़क पर उतर आए। इसके बाद शव को सड़क पर रखकर चक्काजाम कर दिया। इसी बीच लोगों ने गेट नंबर 96 के पास आगजनी भी कर दी। लोगों का कहना था कि अपराधियों को जल्द गिरफ्तार कर मृतक के परिजनों को आर्थिक मुआवजा दिया जाए। देर रात चक्काजाम समाप्त हुआ और पुलिस शव कब्जे में ले सकी। वहीं, पटना सदर ब्लॉक के पूर्व उपप्रमुख नीरज यादव ने घटना की निंदा की है। आगजनी की सूचना पर दमकल की दो गाड़ियों के साथ अग्निशमन कर्मी मौके पर पहुंचे। बाद में वाटर कैनन भी मंगाया गया। वाटर कैनन और दमकल की दो गाड़ियों की मदद से करीब आधा घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद अग्निशमन कर्मियों ने आग पर काबू पा लिया।