चिरांग जिले के पानबारी थाना के अंतर्गत फुलकुमारी गांव में एक अज्ञात हत्यारे ने एक पुरोहित की हत्या कर दी। हत्या किन कारणों से की गर्इ है इस बात का अभी तक पता नहीं चल पाया है। परिवार वालों के मुताबिक फुलकुमारी गांव निवासी प्रदीप उपाध्याय पेशे से पुरोहित था।

 

शनिवार की रात खाना खाने के बाद सोने चला गया था। लेकिन जब सुबह उसके घरवालाें ने उसकी चप्पल बाहर आैर उसे बिस्तर से उसे गायब देखा तो शोर मचाया। शोर सुनकर आस पास के लोग इकट्ठे हो गए आैर प्रदीप की खोज बीन शुरू कर दी।


इतनें में घर से सौ मीटर दूर प्रदीप का शव मिला। उसके माथे पर चोट के निशान थे आैर गले में फांसी का फंदा। इस घटना के बाद गांव में दहशत का महौल है। घटना की जानकारी पुलिस काे दी गर्इ, जानकारी मिलते ही पुलिस तुरंत घटनास्थल पर पहुंची आैर शव का कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी।

 

पुलिस काे हत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया है। लेकिन शक के आधार पर गणेश छेती को हिरासत मेंं लेकर पूछताछ कर रही है। शव का देखकर ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि प्रदीप के सिर पर वार करने के बाद गले में फंदा डालकर कुछ दूर तक घसीट कर हत्या कर दी गर्इ है।


तो वहीं इधर गोरखा सम्मेलन, गोरखा संघ आैर नेपाली साहित्य सभा की चिरांग जिला जिला इकाइयों समेत नेपाली साहित्य सभा बंगार्इगाव जिला र्इकार्इ ने घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है आैर जल्द से जल्द हत्यारे को गिरफ्तार करने की मांग की है।