बिहार के मुंगेर में पिछले सोमवार को दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन के दौरान पुलिस लाठीचार्ज और फायरिंग में एक युवक की मौत के बाद शहर की लगातार बिगड़ती स्थिति को देखते हुए चुनाव आयोग ने मुंगेर के जिलाधिकारी (डीएम) राजेश मीणा और पुलिस अधीक्षक (एसपी) लिपि सिंह को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। इससे पहले गुरुवार सुबह नाराज लोगों ने जिला मुख्यालय स्थित एसपी कार्यालय और एसडीओ आवास में जमकर तोड़फोड़ की। इस दौरान कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया। थाने पर पथराव किया गया है।

अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार सिंह ने गुरुवार को यहां बताया कि आयोग ने मुंगेर के हालात को ध्यान में रखते हुए जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक को तत्काल प्रभाव से हटाने का आदेश दिया है। उन्होंने बताया कि आयोग ने मगध के प्रमंडलीय आयुक्त असंगा चुबा आओ को पूरे प्रकरण की जांच कर एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया। सिंह ने बताया कि आयोग ने मुंगर में नए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक का आज ही पदस्थापन करने का भी निर्देश दिया है। 

गौरतलब है कि मुंगेर जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र में 26 अक्टूबर को मां दुर्गा सहित अन्य प्रतिमाओं के विसर्जन के दौरान हुई फायरिंग में एक युवक की मौत हो गयी तथा छह अन्य घायल हो गये। जिला पदाधिकारी राजेश मीणा और पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने मंगलवार को बताया था कि दीनदयाल उपाध्याय चौक पर सोमवार की रात मां दुर्गा सहित अन्य प्रतिमाओं के विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों की ओर से पुलिस और भीड़ पर हुई फायरिंग में एक युवक की मौत हो गई तथा छह अन्य घायल हो गये। दोनों अधिकारियों ने बताया था कि असामाजिक तत्वों की ओर से किए गए पथराव में संग्रामपुर थानाध्यक्ष सर्वजीत कुमार, कोतवाली थानाध्यक्ष संतोष कुमार सिंह, कासिम बाजार थानाध्यक्ष शैलेश कुमार और वासुदेवपुर पुलिस आउट पोस्ट के अध्यक्ष सुशील कुमार सहित 20 पुलिसकर्मी भी घायल हो गये।