मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने मेघालय के राज्यपाल गंगा प्रसाद को शिलांग में इस्तीफा दे दिया है। मुकुल संगमा ने इस्तीफा देने के बाद कहा कि लोगों ने हमें मैंडेट दिया है। संगमा ने कहा कि मैं राज्यपाल से मिला और उन्हें फिर से पार्टी बनाने के संकेत दिए है। मैंने उन्हें बहुमत के साथ आने लिए भी कहा है। संगमा ने कहा कि भाजपा के पास केवल दो ही विधायक है, ऐसे में वो कैसे सरकार बना सकती है। वे अन्य राजनीतिक दलों के कंधों पर बंदूक रखकर चला रही है।


गौरतलब है कि मेघालय विधानसभा चुनाव में 21 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी कांग्रेस ने यहां सरकार बनाने का दावा पेश किया है। शनिवार देर रात मेघालय कांग्रेस के अध्यक्ष विंसेंट पाला और कांग्रेस महासचिव सीपी जोशी ने राज्यपाल गंगा प्रसाद से मुलाकात कर उन्हें सरकार बनाने के लिए पत्र सौंपा।


इसमें उन्होंने कहा है कि राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर बनकर उभरी है। संवैधानिक नियमों के मुताबिक, कांग्रेस को जल्द से जल्द सरकार बनाने के लिए निमंत्रण दिया जाना चाहिए। विधानसभा में निश्चित दिन और समय के अनुसार पार्टी अपना बहुमत साबित कर देगी। कांग्रेस ने सुबह 11 बजे विधायक दल का नेता चुनने के लिए जीतकर विधायकों की बैठक बुलाई थी।

आंकड़ों के लिहाज से देखें तो कांग्रेस यहां सरकार बनाने से 9 कदम दूर है। राज्य की सत्ता में दोबारा लौटने के लिए उसे 10 विधायकों की और जरूरत है। कांग्रेस मेघालय में मणिपुर और गोवा जैसी गलती नहीं दोहराना चाहती थी इस वजह से उसके दो बड़े नेता अहमद पटेल और कमलनाथ मेघालय में कैंप किए हुए हैं। ये दोनों नेता शनिवार को राहुल गांधी के निर्देश पर यहां भेजे गए थे। अहमद पटेल ने भरोसा जताया है कि इस बार कोई गलती नहीं होगी।