उत्तर प्रदेश के कबीना मंत्री और प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि महिलाओं और बच्चों के गुनाहगार माफिया सरगना मुख्तार अंसारी को बचाने की पुरजोर कोशिश करने वाली कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के मुंह से महिला सुरक्षा की बातें शोभा नहीं देती। उन्होने कहा कि लखीमपुर खीरी की अनीता यादव के बहाने उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर निशाना साधने वाली श्रीमती वाड्रा और उनकी पार्टी मुख्तार अंसारी जैसे दुर्दांत अपराधियों को पालती है। दर्जनों महिलाओं को विधवा और बच्चों को अनाथ बनाने वाला मुख्तार कांग्रेस के लिए हीरो है। मुख्तार अंसारी को बचाने के लिए प्रियंका और उनकी पार्टी की सरकारों ने हर कोशिश की लेकिन योगी सरकार ने महिलाओं और बच्चों के गुनाहगार को जेल की सलाखों के पीछे ला पटका। 

सिंह ने कहा कि योगी सरकार में महिलाओं को सबसे अधिक सुरक्षा और सम्मान मिला है। मिशन शक्ति के तहत थाने से लेकर जिला स्तर तक महिलाओं के लिए विशेष हेल्प डेस्क बनाई गई। पिंक बूथ और पिंक पेट्रोलिंग जैसी योजनाएं चल रही हैं। आज यूपी की महिलाएं सक्षम हैं। निजी क्षेत्र हो या सरकारी हर जगह निडर हो कर स्वाभिमान के साथ कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासित राज्यों में महिलाओं के हालात किसी से छिपे नहीं हैं। प्रियंका वाड्रा को महिलाओं के दर्द से मतलब होता तो वे राजस्थान, छत्तीसगढ़ और पंजाब जैसे राज्यों में महिलाओं का दुख बांटने जातीं। केवल राजनीति के लिए महिलाओं का नाम लेना शर्मनाक है। 

कांग्रेस को कोई ठोस मुद्दा तलाशना चाहिए जिसे लेकर कम से कम चुनाव में तो जा सकें। कबीना मंत्री ने कहा कि यूपी में सियासी पर्यटन पर आई प्रियंका वाड्रा की कोशिश भ्रम फैला कर प्रदेश का माहौल खराब करने की है,लेकिन वो इसमें कामयाब नहीं होंगी। अपराधी और आतंकी समर्थक देश विरोधी विपक्ष को सबक सिखाने के लिए यूपी की जनता तैयार बैठी है। सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा उनकी प्रियंका गांधी को सलाह है कि वह उत्तर प्रदेश में अपना ड्रामाबाजी बंद कर दें क्योंकि यहां कांग्रेस का कुछ होने वाला नहीं है। कांग्रेस वर्षों से यूपी में जीरो पर है और अब भी वहीं रहेगी। यहां की जनता इसे हमेशा के लिए खारिज कर चुकी है।