मुगल शासकों को लेकर त्रिपुरा के मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने कहा कि मुगलों का इरादा अपनी कलाओं और वास्तुशिल्प को अत्यधिक बढ़ावा देकर राज्य की सांस्कृतिक विरासत को नष्ट करने का था। सीएम देब ने ये बातें रविवार को कही। उन्होंने यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोगों से कहा कि वे राज्य की सुंदरता और सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग करें।


एक आधिकारिक बयान में उनके हवाले से कहा गया है कि त्रिपुरा में कई अद्भुत चीजें हैं, जिनके बारे में लोग नहीं जानते हैं। मुगल अपनी कला और वास्तुशिल्प को अत्यधिक बढ़ावा देकर त्रिपुरा की संस्कृति को नष्ट करना चाहते थे।


आगे उन्होंने कहा कि माताबारी की देवी इतनी दिव्य है कि कछुआ भी अपनी अंतिम सांस लेने से पहले मंदिर तक जाता है। ये सभी चमत्कार सोशल मीडिया पर साझा किए जाने के लायक हैं, क्योंकि कई लोग त्रिपुरा के चमत्कारों के बारे में नहीं जानते हैं।