भारत के पूर्व क्रिकेट कप्तान और भारतीय प्रादेशिक सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल (माननीय) एमएस धोनी को राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) की समीक्षा के लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा गठित 15 सदस्यीय पैनल में नामित किया गया है। इस कमेटी के अध्यक्ष पूर्व सांसद बैजयंत पांडा हैं। पैनल में पूर्व केंद्रीय मंत्री कर्नल (सेवानिवृत्त) राजवर्धन सिंह राठौर, राज्यसभा सांसद विनय सहस्रबुद्धे, वित्त मंत्रालय में प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल और जामिया मिलिया इस्लामिया की कुलपति नजमा अख्तर भी शामिल हैं।

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि बदलते समय में इसे और अधिक प्रासंगिक बनाने के लिए एनसीसी की व्यापक समीक्षा के लिए समिति का गठन किया गया है। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि "समिति के संदर्भ की शर्तें, अन्य बातों के साथ, मोटे तौर पर ऐसे उपायों का सुझाव देती हैं जो एनसीसी कैडेटों को विभिन्न क्षेत्रों में राष्ट्र निर्माण और राष्ट्रीय विकास प्रयासों में अधिक प्रभावी ढंग से योगदान करने के लिए सशक्त बना सकते हैं।"

बता दें कि इसका उद्देश्य "संपूर्ण रूप से संगठन की बेहतरी के लिए अपने पूर्व छात्रों के लाभकारी जुड़ाव के उपायों का प्रस्ताव करना और एनसीसी पाठ्यक्रम में शामिल करने के लिए समान अंतरराष्ट्रीय युवा संगठनों की सर्वोत्तम प्रथाओं का अध्ययन और अनुशंसा करना" है।

पैनल में धोनी के अलावा बिजनेसमैन आनंद महिंद्रा को भी शामिल किया गया है। आनंद महिंद्रा, जिन्होंने 2014 में फॉर्च्यून मैगज़ीन की विश्व के 50 महानतम नेताओं की सूची में शामिल किया था, अपने व्यवसाय के रक्षा कार्यक्षेत्र के माध्यम से भारत के रक्षा निर्माण कार्यक्रमों में योगदानकर्ता रहे हैं।