पीएम मोदी के खास माने जाने वाले केंद्रिय मंत्री रामेश्वर तेली भी Assam NRC की फाइनल लिस्ट से नाराज दिखाई पड़ रहे हैं। असम एनआरसी की फाइनल लिस्ट में आई त्रुटियों को लेकर मंत्री ने उस पर सवालिया निशान लगाया है तथा इससे बाहर हुए 19 लाख लोगों के प्रति सहानुभूति प्रकट की है। उन्होंने कहा है इस लिस्ट में असम के कई सारे मू​ल निवासियों को तक को बाहर कर दिया गया है जो कि एक बड़ी गलती है।

रामेश्वर तेली असम के डिब्रूगढ़ से सांसद हैं तथा केंद्र सरकार में स्टेट फोर फूड प्रेसेसिंग मंत्री भी हैं। उन्होंने कहा है कि ' हम एनआरसी की फाइनल लिस्ट से खुश नहीं हैं। इसमें कई सारी गलतियां हैं जिसमें कई सारे अवैध शरणार्थियों के नाम शामिल हो गए हैं।' उन्होंने यह भी कहा है कि 'इसमें कई सारे असम के मूल निवासियों के नाम नहीं हैं। जबकि इसके अपडेशन प 1600 करोड़ रूपए खर्च किए गए हैं। मंत्री ने मांग की है कि यहां के मूल निवासियों के नाम फाइनल लिस्ट में जोड़े जाएं। इसको लेकर हम अमित शाह से बात करेंगे।'

आकपेा बता दें कि असम सरकार की ओर से 31 अगस्त को एनआरसी की फाइनल लिस्ट जारी की गई थी जिसमें यहां के 3,11,21,004 लोग सही पाए गए जबकि 19,06,657 लोगों को अवैध करार दिया गया। इस पर असम सरकार में वित्तमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने कहा है कि वो भी इससे खुश नहीं हैं। उन्होंने भी कहा था कि इस लिस्ट में कई लोगों के नाम नहीं तथा यह त्रुटियुक्त है।