असम के डिब्रूगढ़ लोकसभा सीट से सांसद रामेश्वर तेली ने मोदी सरकार में राज्यमंत्री के तौर पर पद और गोपनीयता की शपथ ली। गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सबसे पहले नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई। इसके बाद राष्ट्रपति ने राजनाथ, अमित शाह सहित कई नेताओं ने कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलाई। फिर राज्यमंत्री के तौर पर रामेश्वर तेली को शपथ दिलाई गई।

असम के दुलियाजान में 14 अगस्त 1970 को जन्मे तेली 10वीं उत्तीर्ण हैं। तेली इस बार कांग्रेस प्रत्याशी पवन सिंह घटोवार को 364566 मतों के बड़े अंतर से पराजित कर लोकसभा पहुंचे हैं। वर्ष 2014 में उन्होंने 185347 वोटों से जीत दर्ज की थी। 2014 के लोकसभा चुनाव में भी इस सीट से रामेश्वर तेली ने बड़ी जीत दर्ज की थी। चाय का शहर के नाम से मशहूर डिब्रूगढ़ असम का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। यह शहर पूरे उत्तर पूर्व का सबसे बड़ा आर्थिक हब है। 2014 के चुनाव में मोदी लहर के चलते कांग्रेस ने इस सीट को फिर से गंवा दिया।


 
2014 में रामेश्वर तेली बीजेपी की टिकट से पहली बार सांसद पहुंचे थे। अगर हम उनके पिछले पांच साल के कार्यकाल पर नजर डालें तो उन्होंने पांच साल में लोकसभा में 86 प्रश्न पूछे, जबकि उन्होंने 74 डिबेट में हिस्सा लिया। वहीं अगर उनकी लोकसभा में उपस्थिति की बात करें तो वे मई 2014 से दिसंबर 2018 के बीच उनकी उपस्थिति 92 फीसदी रही थी।