शिक्षकों का पेशा बहुत ही आदर्शात्मक मूल्यों का होता है। लेकिन कई बार कुछ ऐसी घटनाएं सामने आ जाती हैं जो इस पेशे को बदनाम कर देती है। ऐसा ही एक वाकया हाल ही में मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले से सामने आया है। यहां एक स्कूल प्रिंसिपल ने लड़कियों की ड्रेस पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी, इसके बाद उन पर एफआईआर दर्ज की गई है। प्रिंसिपल ने यह टिप्पणी तब की है जब पूरा देश शिक्षक दिवस मनाकर शिक्षकों को सम्मान दे रहा है।

पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी है। बताया गया कि माचलपुर थाने में तीन लड़कियों की शिकायत के अनुसार, प्रिंसिपल राधेश्याम मालवीय उनके ऊपर तब भड़क गए जब उन्हें स्कूल यूनिफॉर्म में नहीं देखा। आरोप है कि प्रिंसिपल ने कहा कि कल से बिना कपड़ों के ही स्कूल आ जाना, लड़कों को तुम ही बिगाड़ रही हो। यह भी बताया गया कि प्रिंसिपल ने कहा कि यह कपड़े अभी उतार दो।

प्रिंसिपल के इस तरह भड़कने के बाद छात्र-छात्राओं ने स्कूल से लेकर थाने तक रैली निकाली और शिकायत दर्ज करवाई है। माचलपुर पुलिस के एक बयान में बताया गया कि स्कूल के बच्चों के विरोध के बाद शनिवार शाम प्रिंसिपल को यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण, पॉक्सो अधिनियम और आईपीसी प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है।

माचलपुर थाना उपनिरीक्षक जितेंद्र अजनारे ने रविवार को न्यूज एजेंसी से बताया कि फिलहाल आरोपी प्रिंसिपल अभी फरार हैं। यह भी बताया गया कि शिक्षा विभाग ने प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया है। अजनारे ने बताया कि सोमवार को अदालत में भी तीन लड़कियों के बयान दर्ज कराए जाएंगे। हम प्रिंसिपल को गिरफ्तार करने के लिए घर भी गए थे, लेकिन फरार होने की वजह से प्रिंसिपल को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।

उधर राजगढ़ के जिला शिक्षा अधिकारी बीएस बिसोरिया ने कहा है कि पूरी घटना की जानकारी ली गई है। प्रिंसिपल के खिलाफ माचलपुर थाने में मामला दर्ज होने के बाद उसे सस्पेंड कर विभागीय कार्रवाई की जा रही है। इसके साथ पुलिस की एक टीम फरार प्रिंसिपल की तलाश भी कर रही है। मामले में यह भी बताया गया है कि संबंधित लोगों से बातचीत भी की जा रही है।