नई दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता एवं लोकसभा के सदस्य असदुद्दीन ओवैसी बुधवार शाम को उत्तर-पश्चिम दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाके जहांगीरपुरी पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उनको इलाके में लगायी गयी नाकेबंदी से आगे नहीं बढऩे दिया। ओवैसी ने वहां बड़ी संख्या में अपने समर्थकों के बीच मीडिया से बातचीत में सवाल किया, 'इलाके में बगैर नोटिस के मकानों को क्यों तोड़ा गया।'

ये भी पढ़ेंः WhatsApp ने खोला फीचर्स का पिटारा, रिएक्शन जैसे धांसू फीचर, ग्रुप कॉल में एक साथ जुड़ सकेंगे 32 लोग


गौरतलब है कि जहांगीरपुरी इलाके में हनुमान जयंती के मौके पर जुलुस पर पथराव और गोली चलने की घटना के बाद पुलिस ने आज सुबह इलाके में अतिक्रमण को हटाने के लिए नगर निगम ने बुलडोजरों का प्रयोग किया। उच्चतम न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद हालांकि अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई स्थगित कर दी गयी। इस मामले में न्यायालय गुरुवार को सुनावाई करेगा। 

ये भी पढ़ेंः ... लो आ गई चौथी लहर? दिल्ली में फेस मास्क पहनना अनिवार्य, यूपी के कई जिलों में लौट आईं पाबंदियां

सांसद ओवैसी ने संवाददाताओं से बातचीत में यह भी सवाल किया कि बिना अनुमति के शोभायात्रा क्यों निकाली गयी और इसमें लोग हथियार लेकर कैसे शामिल हुए थे। उन्होंने कहा कि नगर निगम की इस कार्रवाई से बहुत से लोगों की रोजी-रोटी छीन गयी है। यह कार्रवाई गलत है और भारत के नियम कायदे को कमजोर करती है। उन्होंने यह भी सवाल किया कि क्या जिन लोगों पर कार्रवाई की गयी वे अवैध रूप से रह रहे रोहिंग्या और बंगलादेशी हैं।