अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होते ही मोस्ट वांटेड आतंकी खलील हक्कानी काबुल की सड़कों पर खुलेआम घूम रहा है। खलील हक्कानी के सिर पर अमेरिका ने 5 मिलियन डॉलर यानी करीब 37 करोड़ 15 लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा है। आज सुबह हक्कानी ने काबुल की पुल-ए-खिश्ती मस्जिद में लोगों को तालिबान के प्रति निष्ठा की शपथ दिलाई। इस दौरान करीब 100 लोग मस्जिद में मौजूद रहे। शपथ के बाद आतंकी खलील हक्कानी ने कहा कि अफगानिस्तान की सुरक्षा ही हमारी प्राथमिकता है।

अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक आतंकी हक्कानी ने कहा कि सुरक्षा के बिना जिंदगी नहीं चलेगी। खलील हक्कानी ने कहा कि हम सुरक्षा देंगे। इस दौरान उसने कहा कि अफगानिस्तान के लोगों को व्यापार और शिक्षा के लिए भी हमलोग काम करेंगे। उसने कहा कि महिलाओं और पुरुषों में भेदभाव नहीं किया जाएगा।

बता दें कि जब से अफगानिस्तान पर आतंकी संगठन तालिबान का कब्जा हुआ है तभी से वहां की सड़कों पर आतंकियों को खुलेआम घूमते देखा जा रहा है। काबुल में आतंकी सड़कों पर हथियार लहरा रहे हैं और लोगों को डरा-धमका रहे हैं। तालीबानी आतंकी पिछले समय में अमेरिकी सैनिकों की मदद करने वालों को ढूंढ रहे हैं और उन्हें ठिकाना लगा रहे हैं।
जैसे ही मस्जिद में खलील हक्कानी का भाषण खत्म हुआ वहां मौजूद लोगों ने तालिबान और हक्कानी के समर्थन में जमकर नारे लगाए। बता दें कि खलील हक्कानी का संबंध हक्कानी नेटवर्क से है। बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान के विस्तार में हक्कानी नेटवर्क की बड़ा योगदान माना जाता है।
गौरतलब है कि जलालुद्दीन हक्कानी ने अपने हक्कानी नेटवर्क की स्थापना साल 1970 में की थी। ऐसा माना जाता है कि साल 2001 में हक्कानी नेटवर्क ने ही ओसामा बिन लादेन को भागने में सहायता की थी।