दुनियाभर में भारत ऐसा देश है जहां शादी को सबसे अधिक अहमियत दी जाती है और इसका समर्थन आंकड़े भी करते हैं. UN Women’s Progress of the World’s Women report के अनुसार, दुनिया में सिर्फ भारत में सबसे कम तलाक की दर है. 2010 तक 45-49 आयु वर्ग की केवल 1.1 फीसदी महिलाओं का तलाक हुआ था. हालांकि इसका मतलब ये नहीं है कि लोगों की शादीशुदा जिंदगी खुशहाल है. इस संबंध में हाल ही के आंकड़े चौंकाने वाले हैं. आइए जानें, क्या कहती है ये रिपोर्ट.

हाल के वर्षों में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों के अनुसार, दुखी विवाहित अधिक संख्या में तलाक लेने के बजाय आत्महत्या कर रहे हैं. पिछले महीने जारी, एक्सीडेंटल डेथ्स एंड सुसाइड्स इन इंडिया के अनुसार, 2016 और 2020 के बीच वैवाहिक समस्याओं ने लगभग 37,591 लोगों को आत्महत्या करने के लिए प्रेरित किया है. रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि 'विवाह संबंधी मुद्दों' के कारण आत्महत्या करने वाली महिलाओं की संख्या पुरुषों की तुलना में अधिक थी.

दहेज के कारण 10,282 आत्महत्याएं हुई हैं, जबकि शादी नहीं होने से 10,584 मौतें हुई हैं. बता दें, दहेज के कारण हर साल औसतन 2,056 आत्महत्याएं हुई हैं, जबकि विवाह न होने का आंकड़ा हर साल 2,100 लोगों का था. रिपोर्ट के मुताबिक, पुरुषों की तुलना में अधिक महिलाओं ने विवाह संबंधी मुद्दों के कारण सुसाइड किया है. खासकर, दहेज से संबंधित मामलों में महिलाओं ने अधिक सुसाइड किया है. पिछले पांच वर्षों में, दहेज संबंधी मामलों के कारण 9,385 महिलाओं ने सुसाइड किया है.

2016 से 2020 के बीच विवाह संबंधी कारणों से आत्महत्या करने वाली महिलाओं की कुल संख्या 21,570 थी जबकि पुरुषों की संख्या 16,021 थी. 2020 में शादी से संबंधित 7,239 आत्महत्याओं में से लगभग 2,018 (26%) दहेज से संबंधित मुद्दों के कारण थीं. इनमें से 1,749 महिलाएं और 249 पुरुष थे. पिछले साल, दहेज से संबंधित मौतों की कुल संख्या 1,956 (3 प्रतिशत) कम थी. विवाहेतर संबंधों के कारण हर साल 1100 आत्महत्याएं हुईं और पांच साल में कुल 5,737 सुसाइड हुए.

विवाह संबंधी कारण, जैसे तलाक या एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के कारण महिलाओं की तुलना में अधिक पुरुषों के सुसाइड किया. 2020 में, तलाक ने 287 पुरुषों ने आत्‍महत्‍या की, जो महिलाओं की संख्या 264 से थोड़ा अधिक है. विवाहेतर संबंधों के मामले में, 724 पुरुषों ने आत्महत्या की, जबकि महिलाओं की संख्या 636 (14%) कम थी.