एक लकड़ी की कीमत क्या हो सकती है, जरा सोचिए। अगर किसी लकड़ी की कीमत सोने या हीरे सी महंगी हो तो चौंकना लाजमी है। ऐसी ही एक लकड़ी का नाम है अगरवुड (Agarwood)। इस लकड़ी को अलौसवुड, ईगलवुड के नाम से भी जाना जाता है। मजे की बात ये है कि यह लकड़ी जापान, अरब, चीन, दक्षिण-पूर्व एशियाई देश के साथ-साथ भारत में भी पाई जाती है। यह दुनिया की सबसे दुर्लभ और सबसे महंगी लकड़ी है। एक किलो अगरवुड की कीमत करीब 73 लाख रुपए तक है।

इस लकड़ी को ईश्वर की लकड़ी और ईश्वरीय लकड़ी के नाम से भी जाना जाता है। अब अगर बात करें इस लकड़ी की कीमत तो इसे पाने के लिए करीब 73 लाख रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। उधर, अगर हम भारत में एक ग्राम हीरे की बात करें तो इसकी कीमत 3,25,000 है। वहीं दस ग्राम सोने की कीमत 47,695 रुपए है।

जापान में इस लकड़ी को क्यारा और क्यानम के नाम से जाना जाता है। अगरवुड से इत्र और अन्य सुगंधित वस्तुएं बनाई जाती हैं। लकड़ी के सडऩे के बाद उसके अवशेषों का उपयोग इत्र के उत्पादन में किया जाता है। अगरवुड से निकाले गए राल से ऊद का तेल भी निकाला जाता है। ऊद एक बेशकीमती तेल है जिसका इस्तेमाल सिर्फ परफ्यूम बनाने में किया जाता है। इस पेड़ की यही खासियत इसके अस्तित्व के लिए परेशानी का सबब बन गई है। कई खूबियों वाले इस पेड़ की जमकर तस्करी भी की गई है। यही कारण है कि अगरवुड चीन, जापान और हांगकांग जैसे देशों में इसकी अवैध कटाई और तस्करी बड़े पैमाने पर की जा रही है।