भारत में अभी सर्दी का मौसम चल रहा है और कड़ाके की ठंड पड़ रही है। विशेषकर उत्तर भारत में तेज सर्दी पड़ती है जिससें जनजीवन अस्त—व्यस्त हो जाता है। लेकिन यह सर्दी कुछ भी नहीं क्योंकि भारत में 10 जगह ऐसी हैं जहां पर सबसे खतरनाक ठंड पड़ती है। यहां रहने वालों को हथौड़े से अंडे और टमाटर तोड़ने पड़ते हैं।

करगिल-
श्रीनगर-लेह हाइवे पर 3,325 मीटर की ऊंचाई पर स्थित करगिल भारत-पाकिस्तान का बॉर्डर का है। सर्दियों में यहां का तापमान -23 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है।

लद्दाख-
हिमालय की पर्वतमाला के बीच बसे लद्दाख का सर्दियों में औसत तापमान लगभग -12 डिग्री सेल्सियस रहता है। यहां का उच्चतम तापमान -2 डिग्री तक ही जा पाता है। सर्दियों में भारी स्नो फॉल और -35 डिग्री टेंपरेचर खतरनाक स्थिति पैदा कर देता है।

लाचेन और थांगु घाटी-
सिक्किम में स्थित लाचुन और थांगु घाटी में जनवरी में औसत तापमान -10 से -15 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। यहां पूरे साल तापमान करीब 0 डिग्री पर रहता है।

तवांग-
अरुणाचल प्रदेश का तवांग भी भारत की सबसे ठंडी जगहों में से एक है। सर्दी के मौसम में इस जगह का तापमान -15 डिग्री सेल्सियस तक चला जाता है।

सियाचिन ग्लेशियर-
भारत की सबसे ठंडी जगह का सियाचिन ग्लेशियर को माना जाता है। सर्दियों में यहां का तापमान -50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। इंटरनेट पर ऐसी कई वीडियोज मौजूद है जहां सैनिक बर्फ से जमे अंडे, टमाटर और जूस को हथौड़ी से तोड़ते नजर आए हैं।

सेला पास-
इस जगह को 'आइसबॉक्स ऑफ इंडिया' भी कहा जाता है। सेला पास करीब-करीब पूरे साल बर्फ की एक पलती सी चादर में लिपटा रहता है। इस जगह का तापमान करीब -15 डिग्री तक चला जाता है।

कीलॉन्ग-
हिमाचल प्रदेश का कीलॉन्ग का तापमान -2 डिग्री तक पहुंच जाता है।

सोनमर्ग-
सोनमर्ग में सर्दियों में ठंड काफी बढ़ जाती है इस वजह से यहां का तापमान करीब -6 डिग्री सेल्सियस तक चला जाता है।

मनाली-
मनाली में सर्दियां आते ही तापमान -10 डिग्री सेल्सियस तक नीचे चला जाता है।

मुंसियारी-
उत्तराखंड के पिथोरगढ़ जिले में स्थित इस जगह का मौसम पूरे साल ठंडा और शुष्क रहता है। सर्दियों में यहां तापमान करीब -10 डिग्री सेल्सियत तक रहता है।