मालीगांव । पूर्वोत्तर सीमा रेलवे उपभोक्तओं और यात्रियों को बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए निरंतर प्रयासरत है । डिजिटल फ्रंट पर पहल करने के अतिरिक्त स्टेशन परिसर में बेहतर बुनियादी ढांचा प्रदान करने के अलावा स्वच्छता एवं खानपान सेवाओं जैसे विभिन्न मोर्चों पर अतिरिक्त जोर दिया गया है।  लगभग  10 करोड़ रुपए के डिजिटलीकरण को आगे बढाने के उद्देश्य से चालू वर्ष में ही इसे खर्च किया जाएगा ।

डिजिटलाइजेशन के अंतर्गत अक्टूबर, 2018  तक वर्कलोड को कम करने के लिए 50.32 प्रतिशत आरक्षण कार्य को ई -टिकटिंग प्लेटफॉर्म पर स्थानांतरित किया गया है । यूनिवर्सल पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई ) पहले से ही सभी पीआरएस और यूटीएस काउंटरों पर शुरू किया जा चुका है। 

कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न खानपान इकाइयों तथा विभिन्न पीआरएस काऊंटर और 88 पीओएस मशीनों पर 178 पीओएस (पाइंट ऑफ सेल ) मशीनें उपलब्ध कराई गई  हैं । सभी ट्रेनों में ई-खानपान शुरू किया गया है । मोबाइल टिकट (मोबाइल पर यूटीएस) पूर्वोत्तर सीमा रेलवे में दिनांक 25.10.2018 से प्रारंभ किया जा चुका है, ताकि अनारक्षित टिकटों के नकद रहित लेनदेन को बढ़ावा  दिया जा सके। 

स्टेशनों पर यात्रियों को बेहतर स्वच्छता एवं सफाई प्रदान करने के लिए 371, स्टेशनों में मशीनीकृत सफाई शुरू की गई है। कई स्टेशनों पर नए फुट ओवर ब्रिज, नई लिफ्टें , नए दिव्यांग अनुकूल शौचालय बनाए गए है, ताकि समाज के सभी वर्गों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकें । 3 लिफ्टों को पहले से ही चालू कर दिया गया है, 40 और लिफ्टें  और 18 एस्केलेटर जल्द ही उपलब्द कराए जाएंगे ।

 वर्तमान वित्तीय वर्ष के दौरान 4  नए यूटीएस काउंटर और 5  नए यूटीएस सह पीआरएस काउंटर खोले गए हैं । प्रतीक्षा कक्ष, प्लेटफॉर्म, विश्राम कक्ष का भी नवीनीकरण किया गया है और बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराईं गई हैं । कई स्टेशनों पर एक्ज़ीक्युटिव लाउंज भी उपलब्ध कराया गया है । यात्री सुविधाओं में सुधार के लिए उठाए गए कदमों के परिणामस्वरूप यात्रियों की संख्या में 7.28 प्रतिशत की बृद्धि हुई है और चालू वर्ष के दौरान यात्रियों है आय में 33.77 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है ।