चिलचिलाती गर्मी से एक बार फिर से उत्तर भारत को राहत मिलने वाली है। दक्षिण पश्चिम मॉनसून करीब दो हफ्ते के बाद आज यानी 19 अगस्त से फिर से उत्तर भारत में सक्रिय होगा। यह जानकारी बुधवार को भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने दी। आईएमडी ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के अलग-अलग स्थानों पर 19 से 21 अगस्त तक भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है। इतना ही नहीं, बिहार में भी बारिश का मौसम बना हुई है और अलग-अलग इलाकों में बीते कुछ दिनों से हर दिन बारिश हो रही है। 

मौसम विभाग की मानें तो हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और पश्चिम उत्तर प्रदेश में 20- 21 अगस्त को बारिश होने का अनुमान है। बिहार के कुछ स्थानों पर 20- 22 अगस्त को भारी बारिश हो सकती है। आईएमडी ने कहा कि गुजरात, महाराष्ट्र, ओडिशा, झारखंड, पश्चिम बंगाल के गंगा वाले क्षेत्रों में 18 और 19 अगस्त को, मध्यप्रदेश में 18 से 20 अगस्त को, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ में 18 अगस्त को बारिश हो सकती है। 

इसने कहा कि पूर्वोत्तर भारत और हिमालय के पश्चिम बंगाल, सिक्किम में अगले दो दिनों तक बारिश होने की संभावना है। बिहार और यूपी के कई इलाकों में भारी बारिश की वजह से बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं। गंगा से लेकर कई नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है।

इधर, मौसम विभाग ने आज पूर्वी उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने का अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा पूर्वांचल में कई स्थानों पर हल्की से सामान्य वर्षा होने या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने का भी अनुमान है।  पश्चिमी यूपी में कुछ स्थानों पर छिटपुट बारिश हो सकती है। इसी क्रम में 20 व 21 अगस्त को पश्चिमी यूपी में अधिकांश स्थानों और पूर्वांचल में कई स्थानों पर बारिश होने के आसार जताए गए हैं।

मौसम विभाग ने उत्तराखंड के अधिकांश जिलों में 19 से 22 तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। 19 और 20 को ऑरेंज अलर्ट है तो 21 ओर 22 को येलो अलर्ट रहेगा। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार, 19 को कुमाऊं मंडल के पर्वतीय क्षेत्र व उससे लगे गढ़वाल मंडल के जिलों में कहीं कहीं तीव्र बौछार के साथ भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है। हरिद्वार व उधमसिंहनगर को छोड़कर बाकी सभी जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है।