भारतीय मौसम विभाग ने केरल में मॉनसून के इस साल 30 मई को दस्तक देने का पूर्वानुमान जताया है, लेकिन मौसमी बारिश एक दिन पहले ही शुरू हो सकती है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम राजीवन ने कहा कि तय समय से पहले मॉनसून के आने के लिए स्थिति अनुकूल दिख रही है। वहीं देश के उत्तरपूर्वी इलाके नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में मॉनसून के 30 से 31 मई के बीच दस्तक देने का अनुमान लगाया जा रहा है। 

ऐसे में अगले 24 घंटे में अंडमान, निकोबार द्वीप समूह, असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल के पर्वतीय क्षेत्र और सिक्किम में कहीं कहीं तेज बारिश हो सकती है। पश्चिम बंगाल के पहाडी इलाके, सिक्किम, ओडिशा, झारखंड, बिहार, उत्तराखंड के अलग अलग स्थानों पर गरज के साथ और गांगेय पश्चिम बंगाल, उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में आंधी और तूफान के साथ बारिश होने की संभावना है।

बता दें कि विषवत रेखा से बंगाल की खाड़ी की तरफ मानसून का प्रवाह काफी अच्छा नजर आ रहा है। अपने पहले चरण में यह उम्मीद की जा रही है कि मानसून तेजी से दक्षिणी प्रायद्वीप की तरफ बढ़ेगा। बंगाल की खाड़ी में मानसून की हवाओं के आने के साथ ही दक्षिण भारत में मानसून से पहले की मौसमी गतिविधियां बढ़ गई हैं। केरल और कर्नाटक के कई हिस्सों में प्री-मानसून बारिश ने तेजी पकड़ ली है। वहीं दूसरी तरफ पूर्वोत्तर भारत में प्री मानसून बारिश जोरदार ढंग से कई इलाकों को अपने आगोश में लिए हुए हैं। मौसम विभाग के पूर्व अनुमान के मुताबिक पूर्वोत्तर भारत के कई इलाकों में अगले 24 से 72 घंटे तक झमाझम बारिश होने की संभावना है। लिहाजा मौसम विभाग इस पूरे घटनाक्रम पर अपनी नजर बनाए हुए हैं।