प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra0 ने मंगलवार को अपने बयान का एक वीडियो जारी कर प्रधानमंत्री (Prime Minister Narendra Modi) से सवाल किया कि केंद्रीय मंत्री को बर्खास्त क्यों नहीं किया गया और उनके बेटे (Union Minister son0 को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया, जो कथित तौर पर लखीमपुर खीरी में किसानों को कुचलने की घटना में शामिल है। हिंदी में साझा किए गए वीडियो में प्रियंका ने कहा, मोदी जी नमस्कार। मैंने सुना है कि आज आजादी का अमृत उत्सव मनाने के लिए आप लखनऊ आ रहे हैं। क्या आपने ये वीडियो (Lakhimpur Kheri Video) देखा है, जिसमें आपकी सरकार के मंत्री का बेटा किसानों को अपनी गाड़ी के कुचलते हुए दिखाई दे रहा है। वीडियो को देखिए और इस देश को बताइये कि इस मंत्री को बर्खास्त क्यों नहीं किया गया और मंत्री के बेटे को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया।

उन्होंने आगे कहा, मेरे जैसे विपक्ष के नेताओं को तो आपने हिरासत में बिना किसी ऑर्डर और एफआईआर के रखा है, मैं जानना चाहती हूं कि ये आदमी आजाद क्यों है। आज जब आप आजादी के अमृत उत्सव की महफिल में बैठे होंगे तो याद कीजिए कि आजादी हमको किसने दिलाई। इन्हीं किसानों ने हमें आजादी दिलाई। आज भी किसानों के बेटे सीमा पर देश की सुरक्षा कर रहे हैं। किसान महीनों से त्रस्त है, अपनी आवाज उठा रहे हैं। आप उसे नकार रहे हैं। मैं आपसे आग्रह करती हूं लखीमपुर आइए ना.. इस अन्नदाता की जो देश की आत्मा भी है...., उनकी पीड़ा समझिए और सुनिए। उनकी सुरक्षा करना आपका धर्म है...आपका कर्तव्य है.... जय हिंद, जय किसान।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में रविवार को हुई हिंसा की घटना का कांग्रेस ने एक वीडियो पोस्ट किया है। वीडियो को कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर सोमवार को रात 11.33 बजे पोस्ट किया गया।कांग्रेस ने दावा किया कि वीडियो लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri Video) की घटना का है। हालांकि पुलिस ने वीडियो पर कोई टिप्पणी नहीं की है। वीडियो में एक किसान को सफेद शर्ट और हरे रंग की पगड़ी पहने देखा जा सकता है, जिसे एक जीप टक्कर मार देती है और वह वाहन के बोनट से टकरा जाता है, जबकि अन्य लोग खुद को बचाने के लिए एक तरफ कूद जाते हैं।

इसके बाद जीप आगे बढ़ती है और ठीक उसके बाद एक काली एसयूवी निकलते हुए दिखाई देती है। दो वाहनों के आगे बढऩे पर कम से कम आधा दर्जन लोग सडक़ के किनारे पड़े देखे जा सकते हैं। प्रियंका को अब हिरासत में एक दिन से अधिक समय हो गया है। उन्हें सीतापुर के हरगांव इलाके में सोमवार सुबह हिरासत में लिया गया था। पुलिसकर्मियों के साथ एक संक्षिप्त विवाद के बाद, प्रियंका को पीएसी गेस्ट हाउस ले जाया गया और अब तक वह वहीं पर हैं। कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ता गेस्ट हाउस के बाहर बैठे हैं और अपनी नेता की रिहाई का इंतजार कर रहे हैं। प्रियंका ने कहा है कि रिहा होते ही वह शोक संतप्त परिवारों से मिलने लखीमपुर खीरी जाएंगी। इस बारे में बात करते हुए एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सरकार ने इस तथ्य पर ध्यान दिया है कि प्रियंका Priyanka Gandhi Vadra ने हिरासत में रहने के दौरान कुछ समाचार चैनलों से फोन पर बात की थी। अधिकारी ने कहा, हम मामले की जांच कर रहे हैं और जल्द ही चैनलों और बातचीत की व्यवस्था के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।