मिजोरम में कांग्रेस को सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ रहा है और सभी की निगाहें विपक्षी दल मिजो नेशनल फ्रंट(एमएनएफ) पर है। पूर्व मुख्यमंत्री और एमएनएफ के चीफ जोरामथंगा (74) ने आगामी विधानसभा चुनाव व उसमें पार्टी की संभावनाओं को लेकर एक समाचार पत्र से बात की। जोरामथंगा ने कहा कि ईसाई बहुल मिजोरम में भाजपा के लिए कोई जगह नहीं है। अगर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी यहां प्रचार के लिए आएं तो भी भाजपा नहीं जीत पाएगी। लोग उनकी रैली में उस तरह से शामिल होंगे जैसे लोग तमाशा देखने जाते हैं, मोदी की रैली का चुनाव पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।


एमएनएफ चीफ ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस बुरी स्थिति से गुजर रही है। पार्टी के उपाध्यक्ष और गृह मंत्री ने हमारी पार्टी ज्वाइन कर ली। विधानसभा के स्पीकर जो कांग्रेस में थे, भाजपा में शामिल हो गए। पार्टी के सचिव और महासचिव भी उन्हें छोड़कर जा रहे हैं। हमें चुनाव में आसानी से बहुमत मिलने की उम्मीद है। राज्य का विकास करने में कांग्रेस सरकार पूरी तरह विफल रही है। गैर सरकारी संगठनों और चर्च की इच्छाओं के खिलाफ जाकर शराब पर से 18 साल पुराना प्रतिबंध हटा दिया। इससे समाज में शराब से संबंधित बीमारियां और मौतें हो रही है। मोदी मेरे मित्र जैसे हैं।


वह भारत के लिए अच्छे प्रधानमंत्री हैं लेकिन मिजोरम में भाजपा की कोई जगह नहीं है। वे बहरुपिये जैसे हैं। ईसाई बहुल मिजोरम में भाजपा के लिए कोई जगह नहीं है। ईसाई भाजपा की हिंदुत्व वाली राजनीति के खिलाफ हैं। जहां तक बात मिजोरम के चुनाव की है जो एमएनएफ का भाजपा से कोई संबंध नहीं है। हमारी विचारधाराएं बिल्कुल अलग है। जो कोई भी ईसाई बहुल मिजोरम में हिंदुत्व की विचारधारा के साथ आएगा उसे सामाजिक रूप से बहिष्कृत कर दिया जाएगा।


गठबंधन को लेकर एमएनएफ और भाजपा के बीच कोई गुप्त वार्ता  नहीं हुई है लेकिन खुद कांग्रेस ने चकमा स्वायत्त जिला परिषद में भाजपा से गठबंधन किया था। आगामी विधानसभा चुनाव में अगर भाजपा एक या दो सीटें भी जीत ले तो मुझे हैरानी होगी। मिजोरम ईसाई बहुल राज्य है। भाजपा की यहां कोई संभावना नहीं है। अगर प्रधानमंत्री मोदी प्रचार के लिए आएं तो भी भाजपा नहीं जीत पाएगी। लोग उनकी रैली में उसी तरह से शामिल हो सकते हैं जैसे लोग तमाशा देखने जाते हैं लेकिन इसका चुनाव पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। हम विकास का वादा कर रहे हैं। हम सामाजिक आर्थिक विकास कार्यक्रमों को लागू करेंगे। हम राज्य में शराब पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाएंगे।