सरकार दो फर्टिलाइजर कंपनियों नेशनल केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स लि. यानी आरसीएफ और नेशनल फर्टिलाइजर्स लि. यानी एनएफएल के शेयरों की बिक्री इस साल दिसंबर के अंत तक कर सकती है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। इस शेयर बिक्री से सरकार को 1,200 से 1,500 करोड़ रुपये से ज्यादा प्राप्त हो सकते हैं।

अधिकारी ने कहा कि सरकार ऑफर फॉर सेल (OFS) के जरिए आरसीएफ में अपनी 10 फीसदी और एनएफएल में 20 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी। अधिकारी ने कहा कि इस शेयर बिक्री से सरकार को 1,200 से 1,500 करोड़ रुपये मिल सकते हैं।

इस शेयर बिक्री के लिए मर्चेंट बैंकरों की नियुक्ति पहले ही की जा चुकी है। अधिकारी ने कहा कि सरकार ने फर्टिलाइजर सेक्टर के लिए जो कदम उठाए हैं, उनसे आगामी महीनों में शेयरों का वैल्यूएशन बेहतर हो सकता है।

बीएसई में शुक्रवार को आरसीएफ का शेयर 72.25 रुपये पर और एनएफएल का 53.95 रुपये पर बंद हुआ। सरकार की फिलहाल एनएफएल में 74.71 फीसदी और आरसीएफ में 75 फीसदी हिस्सेदारी है।

सरकार ने 2021-22 में विनिवेश के जरिए 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखा है। पिछले वित्त वर्ष में सरकार ने विनिवेश से 38,000 करोड़ रुपये जुटाए थे। चालू वित्त वर्ष में सरकार अब तक एक्सिस बैंक, एनएमडीसी लि.और हुडको में हिस्सेदारी बिक्री से 8,300 करोड़ रुपये जुटा चुकी है।