केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार 5 जुलाई को पेश होने वाले पूर्ण बजट में आम लोगों को बड़ी राहत दे सकती है।एक एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, सरकार LNG इंपोर्ट को सस्ता बनाने के लिए इंपोर्ट ड्यूटी में कटौती कर सकती है। ड्यूटी घटने से CNG-PNG की कीमतें घटेंगी। सरकार इसकी घोषणा बजट में कर सकती है। ड्यूटी घटने से पावर और फर्टिलाइजर सेक्टर को फायदा होगा। 

आपको बता दें कि LNG के सस्ता होने से CNG की कीमतों में गिरावट आएगी। ऐसे में सीएनजी फ्यूल आधारित कारों पर फ्यूल का खर्च घट जाएगा। वहीं, पाइप के जरिए घरों तक पहुंचने वाली पीएनजी की कीमतों में भई गिरावट आ सकती है। ऐसे में सस्ती गैस से आम आदमी के लिए खाना पकाना सस्ता हो जाएगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 5 जुलाई को अपना पहला बजट पेश करेंगी। इससे पहले 4 जुलाई को आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाएगा। आपको बता दें कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का यह पहला बजट है। इससे पहले एक फरवरी को मोदी सरकार ने अंतरिम बजट पेश किया था।

पेट्रोलियम मंत्रालय ने LNG इंपोर्ट पर ड्यूटी घटाने की सिफारिश की है। अभी LNG पर 2.5 फीसदी बेसिक इंपोर्ट ड्यूटी लगती है। इंपोर्ट ड्यूटी पर पिछले हफ्ते भी पेट्रोलियम-वित्त मंत्रालय के बीच बैठक हुई थी।24 हजार मेगावॉट के ऐसे गैस बेस्ट पावर प्लांट हैं जो गैस की कमी से जूझ रहे हैं, उनको फायदा होगा।इसके अलावा सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क को सरकार 400 शहरों में लेकर जाना चाहती है। सीएनजी-पीएनजी की कीमतों में कमी आएगी। सूत्रों के मुताबिक सरकार इसको लेकर काफी गंभीर है और इस बजट में इसकी घोषणा हो सकती है।