केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने भारत के नेपाल और म्यांमार के साथ स्वास्थ्य एवं चिकित्सा के क्षेत्र में सहयोग के करारों को आज स्वीकृति प्रदान की। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की यहां हुई बैठक में यह फैसला लिया गया। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) तथा नेपाल स्वास्थ्य अनुसंधान परिषद (एनएचआरसी) के बीच गत वर्ष 17 नवंबर और इस वर्ष चार जनवरी को समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किये गये थे। 

जबकि आईसीएमआर और म्यांमार के स्वास्थ्य एवं खेल मंत्रालय के चिकित्सा अनुसंधान विभाग के बीच करार पर फरवरी 2020 में दस्तखत किये गये थे। नेपाल के साथ हुए करार के तहत सीमा के दोनों ओर लोगों में होने वाली बीमारियों, आयुर्वेद एवं पारंपरिक औषधियों, औषधि पादपों, जलवायु परिवर्तन एवं स्वास्थ्य, गैरसंक्रामक रोग, मानसिक स्वास्थ्य, जनसंख्या आधारित कैंसर रजिस्ट्री, विषाणु जनित रोग, इन्फ्युएंजा, क्षमता एवं कौशल संवर्धन, अनुभवों को साझा करने की सहमति बनी है।

दोनों ओर से विशेषज्ञ एक दूसरे के यहां अनुसंधान कर सकते हैं। म्यांमार के साथ हुए करार के तहत संक्रामक रोगों के खात्मे, विषाणु संक्रमण के प्रसार एवं नेटवर्क प्लेटफॉर्म के विकास, अनुसंधान प्रबंधन, क्लीनिकल ट्रायल आदि तथा नियामक प्रणाली के विकास के लिए संयुक्त रूप से काम करने की सहमति जतायी गयी है।