पूर्वोत्तर राज्य असम में बाढ़ का कहर जारी है। राज्य को बाढ़ से राहत देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा ऐलान करते हुए शुक्रवार को असम के सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल को मदद का आश्वासन दिया है। राज्य के 33 में से बाढ़ प्रभावित 28 जिलों को राहत पहुंचाने के लिए हरसंभव केंद्रीय मदद दी जाएगी। असम के 10 भाजपा सांसदों को मोदी ने यह आश्वासन तब दिया जब ये लोग उन्हें राज्य में बाढ़ के हालात की जानकारी देने के लिए उनसे मिलने दिल्ली पहुंचे थे।


प्रतिनिधिमंडल ने इस संकट से निपटने के लिए वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने का अनुरोध किया। मंगलदोई से सांसद दिलीप सैकिया ने मुलाकात के बाद संवाददाताओं को बताया, 'प्रधानमंत्री ने धैर्यपूर्वक हमारी बात सुनी और आश्वासन दिया कि परेशान लोगों को राहत पहुंचाने के लिए राज्य सरकार को हरसंभव केंद्रीय सहायता उपलब्ध करायी जाएगी।'


प्रधानमंत्री कार्यालय ने बाद में ट्वीट किया, 'केंद्रीय मंत्री रमेश्वर तेली समेत असम के सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इस दौरान राज्य में बाढ़ के मौजूदा हालात और लोगों को राहत पहुंचाने के लिए उठाए गए कदमों पर चर्चा हुई।'


सैकिया और तेली के अलावा प्रधानमंत्री से मिलने वालों में कामाख्या प्रसाद तासा, पल्लब लोचन दास, प्रदन बरुआ, तपन कुमार गोगोई, राजदीप रॉय, क्वीन ओजा, कृपानाथ मल्लाह और होरन सिंह बे शामिल थे। प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन भी सौंपा जिसमें बाढ़ से निपटने के लिये विशेष पैकेज दिए जाने की मांग की गई।