जम्मू के तीन जिलों में सोशल मीडिया पर डाले गये आपत्तिजनक पोस्ट की वजह से स्थिति तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में है। अधिकारियों ने विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए निषेधाज्ञा लागू कर दिया है। प्रशासन ने डोडा, किश्तवाड़ तथा रामबन जिलों में गुरुवार रात पाबंदियां लगा दीं। 

ये भी पढ़ेंः पैगंबर विवाद : दिल्ली में एआईएमआईएम के 30 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार


प्रशासन ने ये पाबंदियां सोशल मीडिया पर एक आपत्तिजक पोस्ट के वायरल होने के बाद लगायीं, जिसमें एक विशेष समुदाय की भावनाएं आहत की गयी हैं। इन जिलों में मोबाइल इंटरनेट, फाइबर इंटरनेट सेवाएं बाधित कर दी गयी हैं। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने ट्वीट करके कहा कि मैं भारवाह में गुरुवार को हुई हिंसा की घटना से परेशान हूं। मैं दोनों समुदायों के लोगों से विनम्रता पूर्वक आग्रह करता हूं कि शांति बनाएं रखें तथा पारंपरिक समरस्ता कायम करने के लिए आपस में बैठकर बात करें। यह खूबसूरत शहर (भारवाह) अपनी पारंपरिक समरस्ता के लिए जाना जाता है। 

ये भी पढ़ेंः नूपुर शर्मा के समर्थन में उतरी BJP सांसद साध्वी प्रज्ञा, कहा- उनका इतिहास गंदा है


इन जिलों में शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया है। पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों तथा प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा सेना और अर्ध सैनिकों बलों के जवान इन इलाकों में तनाव समाप्त करने के लिए डेरा डाले हुए हैं। उल्लेखनीय है कि गत सप्ताह भारवाह क्षेत्र के कैलाश कुंड में स्थित वासुकी नाग मंदिर में तोड़फोड़ की घटना के बाद पूरे जम्मू क्षेत्र में प्रदर्शन हुए हैं। जिला प्रशासन ने मीडिया से सोशल मीडिया पर किसी तरह की आपत्तिजनक सामग्री पोस्ट नहीं करने की अपील की है। एक अधिकारी ने कहा, अगर किसी ने कुछ आपत्तिजनक पोस्ट किया है, तो उसे हटाने का अनुरोध किया जाता है। आपकी असंवेदनशील पोस्ट से समाज को कीमत चुकानी पड़ सकती है। जिम्मेदार बनें और यथार्थवादी पत्रकारिता करें। कोई भी सामग्री तर्कहीन और ईशनिंदा वाली पाई जाए तो कृपया प्रशासन को उसके बारे में जानकारी दें, ताकि उचित और कानूनी कार्रवाई शुरू की जा सके।