मिजोरम में कांग्रेस मुख्यमंत्री ललथनहवल ने सोमवार को कहा कि राज्य में भाजपा को अपना खाता खोलने के लिए पांच साल आैर इंतजार करना हाेगा। उन्होंने आरोप लगाया है कि भाजपा धनशक्ति से मतों को खरीदने की काेशिश कर रही है। थनहवला ने कहा कि भाजपा चकमा और ब्रू समुदायों के नेताओं को गुवाहाटी ले जाकर और ‘आरएसएस की विचारधारा से उनकी मति फेर कर’ उनके वोट खरीदने का प्रयास कर रही है।

धन शक्ति से मिजोरम के लोगों को बर्बाद करने की कोशिश
नौ बार विधायक रहे मुख्यमंत्री थनहवला ने कहा, ‘केंद्र में सत्तारूढ़ दल के तौर पर उन्हें मिजोरम में खाता खोलने का प्रयास करना चाहिए जो वह अभी तक नहीं कर पाए हैं। उनका स्वागत है लेकिन मैं उन्हें सलाह दूंगा कि धन शक्ति से मिजोरम के लोगों को बर्बाद नहीं करें। मिजोरम में धन की कभी कोई भूमिका नहीं रही। मिजोरम में चुनाव सबसे निष्पक्ष, स्वतंत्र और शांतिपूर्ण रहा।’

मिजोरम में भाजपा को नहीं मिलेगी एक भी सीट
पिछले दस वर्षों में भाजपा के सबसे जोरदार चुनाव प्रचार के बारे में थनहवला ने कहा, ‘खाली बर्तन तेज आवाज करता है।’ उन्होंने अनुमान जताया कि बुधवार को होने वाले 40 सदस्यीय विधानसभा चुनाव में बीजेपी को एक भी सीट मिलने की संभावना नहीं है। चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जितेन्द्र सिंह ने राज्य की कांग्रेस सरकार पर जोरदार हमले किए और पहाड़ी राज्य में विकास नहीं होने के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया।

मिजोरम चुनाव में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं हिमंत
मुख्यमंत्री ने आरोप लगाए, ‘वे चकमा और ब्रू जैसे सूक्ष्म अल्पसंख्यक इलाकों में काफी धन खर्च कर रहे हैं। उन्होंने उनके नेताओं को गुवाहाटी भेज दिया ताकि उन्हें आरएसएस की विचारधारा से ओत-प्रोत किया जा सके। हिमंता बिस्व सरमा बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। वह काफी संख्या में ब्रू नेताओं को गुवाहाटी और अन्य स्थानों पर ले गए और उनकी मति फेरने का प्रयास कर रहे हैं।’

कांग्रेस के साथ भाजपा कर सकती है गठबंधन
मुख्यमंत्री ने कहा, ‘वह धन शक्ति से उन्हें खरीदने का प्रयास कर रहे हैं। मुझे नहीं पता कि वह कितनों को खरीद सकते हैं। लेकिन मैंने उनसे (चकमा और ब्रू से) कहा कि उन्हें अपनी परम्परा नहीं भूलनी चाहिए। लोग उन्हें खरीदने का प्रयास कर रहे हैं। अन्यथा वह केवल सूक्ष्म अल्पसंख्यक वाले इलाकों पर ध्यान क्यों केंद्रित करते?’ यह पूछने पर कि असम के मंत्री और बीजेपी नेता सरमा ने बयान दिया था कि मिजोरम कांग्रेस के साथ बीजेपी गठबंधन कर सकती है, तो थनहवला ने इससे इंकार किया।