देहरादून। उत्तराखण्ड की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रेखा आर्या ने कन्या भ्रूण संरक्षण और बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश देने के लिए हरिद्वार के हर की पैड़ी से कांवड़ में गङ्गा जल लेकर ऋषिकेश के वीर भद्र स्थित शिव मंदिर में जल चढ़ाने का संकल्प लिया है। 

वह 25 किलोमीटर लम्बी कांवड़ यात्रा पैदल तय कर, जन जागरूकता में योगदान करेंगीं। बुधवार को यहां विधानसभा भवन में संवाददाताओं को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सावन के इस पवित्र माह में यह संकल्प बेटियों के प्रति समाज में फैली रूढि़वादी सोच को तोडऩे और उन्हें जागरूक करने के उद्देश्य से लिया है। उन्होंने कहा कि महिलाओं का देश की उन्नति में 20वीं सदी से ही एक बड़ा योगदान रहा है। जो 21वीं सदी में भी बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि हम 21वीं सदी में पहुंचे तो जरूर हैं, लेकिन आज भी हमारे समाज में लडकियों के प्रति नजरिया नहीं बदला है और वह है लडके और लड़की को एक समान नजर से देखना, लडकियों को सही सम्मान देना।

यह भी पढ़ें : नगा वार्ता समाप्त होने का कोई दस्तावेजी सबूत नहीं: NSCN-IM

आर्या ने लिंगानुपात के सन्दर्भ में बताया कि वर्तमान में प्रदेश में 1000 बालकों की तुलना में महज 949 बालिकाएं ही हैं। जबकि लिंगानुपात के मामले में राष्ट्रीय औसत 899 का है। उन्होंने अपनी इच्छा व्यक्त की की जब 2025 में हम रजत जंयती मना रहे हों, तब हम इस लैंगिक असमानता को खत्म कर सकें। आर्या ने विश्वास व्यक्त किया कि 2025 में जब हम प्रदेश की रजत जंयती मना रहे होगें तब यह आकडा 1000 बालकों पर 1000 बालिकाओं का होगा। उन्होंने आह्वान किया कि हमारे समाज में बेटियों को गर्भ में मार देने जैसी सोच है। हमें इस संकल्प के जरिये इसी सोच को खत्म करना है कि चाहे बेटी हो लेकिन वह भी बेटो के बराबर का हकदार हैं। 

कैबिनेट मंत्री ने बताया कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और लैंगिक असमानता को खत्म करने को लेकर यह संकल्प लिया है। जिसके लिए एक संदेश उन माता-पिता और समाज को दिया जाना है, जो लड़कियों को लेकर इस तरह की सोच रखते हैं। उन्होंने बताया कि 26 जुलाई को हरिद्वार हर की पैडी से कांवड में जल भर कर ऋषिकेश स्थित पौराणिक वीरभद्र मंदिर में जलाभिषेक करने का निर्णय लिया हैं जो कि लगभग 25 किमी की पैदल यात्रा होगी। आर्या ने बताया कि हर की पैड़ी पहुंचने का समय सुबह छह बजे होगा। गंगा पूजा और महात्माओं के शंखनाद के साथ हर की पैड़ी पर गुरुजी हरि गिरी महाराज, अवधेशानंद जी, राज राजेश्वरानंद जी, रामदेव जी, कैलाशानंद जी एवम जिले के संगठन, विधायक तथा सम्पूर्ण जूना अखाड़ा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती उपस्थित रहेंगे। 

यह भी पढ़ें : असम के पहले सौर ऊर्जा संयंत्र का उद्घाटन, 5 करोड़ यूनिट बिजली उत्पादन का लक्ष्य

उन्होंने बताया कि इस यात्रा में प्रदेश के अलग-अलग जिलों से आंगनबाडी बहनें, खेल विभाग की छात्राएं रहेंगी। मंत्री ने बताया कि यात्रा का समापन अपराह्न लगभग 3:30 बजे ऋषिकेश स्थित वीरभद्र मंदिर में किया जाएगा। जिसमें मुख्यमंत्री पुष्कर सह धामी, मंत्री, स्वामी चिदानंद सरस्वती, संगठन व विधायकगण मौजूद रहेंगे। कैबिनेट मंत्री ने बताया कि राज्य की सभी आंगनबाड़ी बहनों और विभागीय अधिकारीगणों, कर्मचारियों को भी पत्र जारी करते हुए ये स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि वह भी इस संकल्प को पूरा करने में अपना सहयोग करें। सभी आंगनबाड़ी बहनें व विभागीय अधिकारी, कर्मचारी अपने-अपने नजदीकी शिवालयों में जलाभिषेक करें और बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के इस संकल्प को पूरा करें।