तेजपुर। सतिया से लेकर गोहपुर तक सैकड़ों  लघु चाय उत्पादक जी-जान से चाय की खेती कर रहे हैं । पर दुख की बात है कि उन्हें उनके द्वारा उत्पादित चाय की उचित कीमत नहीं मिल पाती  । अगर सांसद के तौर पर जनता मुझे चुनती है तो मेरी सर्वप्रथम प्राथमिकता चाय उद्योग एवं चाय श्रमिकों के अभाव-अभियोगों की तरफ सरकार का ध्यान आकृष्ट करना होगा। ये बातें गत रात 10 बजे होटल हेरीटेज में आयोजित पत्रकार सम्मेलन में तेजपुर लोस सीट से  उम्म्मीवार  पल्लव लोचन दास ने संवाददाताओ द्वारा पूछे गए प्रश्न के उत्तर में कही । 

उन्होंने कहा कि वर्तमान में असम में सभी छोटे-बड़े चाय बागान नुकसान में चल रहे है  । कई वृहत चाय कंपनियां अपने बागानों को बेचने पर मजबूर हो गई हैं । एटीवीए के अधिकतर बागान घाटे में चल रहे हैं । उन्होंने कहा कि एमजीवीके भानु टी बोर्ड के चेयरमैन  थे तब भी उन्होंने चाय उद्योग की  समस्याओं को दूर करने के लिए किसी  प्रकार का प्रभावी कदम नहीं उठाया । 

मैं अगर सांसद चुन लिया गया तो संसद में चाय उद्योग की समस्याओं के साथ चाय श्रमिकों के कल्याण के लिए प्रभावशाली योजनाएं बनाने की  सिफारिश सरकार से करुंगा । उन्होंने कहा कि पहले चाय श्रमिकों को सुविधाएं उपलब्ध कराने का सारा बोझ बागान मालिको पर पड़ता था इसलिए श्रमिकों को बुनिलाय तक नहीं प्राप्त होते थे । पर हमारी सरकार के आने के बाद हमने चाय श्रमिकों के कल्याण के लिए कई सरकारी योजनाओं का  सीधा लाभ चाय श्रमिकों तक पहुंचाने का पुरजोर प्रयत्न किया है । पल्लव लोचन ने कहा कि मेरा पुरजोर इस क्षेत्र में सड़क तथा वायु मार्ग की कनेक्टिविटी को मजबूत करना होगा  ।

सुगम यातायात  के साधन जनता की पहुंच में होने से ही क्षेत्र में विकास की गति तेज होगी । उन्होंने ओेधोगिक  विकास की प्रक्रिया को उन्तत करने  के लिए जगह जगह विकास केंद्रों की  स्थापना पर जोर दिया।  कांग्रेस प्रत्यासी भानू के बारे में प्रतिक्रिया  देते हुए पल्लव लोचन ने कहा कि भानू  के साथ साधारण जनता का संबंध  स्थापित नहीं हो सकता क्योंकि वे एक  बड़े नौकरशाह के रूप में जाने जाते  हैं । साधारण लोग उनसे रू-ब-रु होने  से भी डरते हैं । 

दूसरी बात कोंग्रेस की  कोई नीति नहीं है और राहुल गांधी में  प्रतिभा की कमी है । वे किसी को भी प्रभावित नहीं कर सकते । पल्लव ने  आने कहा कि कोंग्रेस सदा भ्रष्टाचार की राजनीति करती आ रही है। उन्होंने  जनता की भलाई के लिए कोई  महत्वपूर्ण कार्य नहीं किया है । इस  दौरान तेजपुर के पूर्व विधायक बरठाकुर भी उपस्थित थे ।