पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) प्रमुख एवं जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बारामूला में एक सैनिक स्कूल की ओर से अपने कर्मचारियों को हिजाब पहनकर नहीं आने के फरमान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यहां की लड़कियां अपने अधिकार नहीं छोड़ेंगी। 

ये भी पढ़ेंः यूपी सीएम योगी का जबरदस्त एक्शन, 6031 जगहों से हटवाए लाउडस्पीकर, 29674 की आवाज हुई कम


मुफ्ती ने ट्वीट किया, मैं हिजाब को लेकर फरमान जारी करने वाले इस पत्र की निंदा करती हूं। जम्मू कश्मीर में भाजपा का शासन हो सकता है, लेकिन यह अन्य राज्यों की तरह नहीं है, जहां वे अल्पसंख्यकों के घरों को बुलडोजर से गिराते हैं। उन्हें अपनी इच्छानुसार कपड़े पहनने की स्वतंत्रता नहीं देते हैं। हमारी लड़कियां चुनने का अधिकार नहीं छोड़ेंगी। उन्होंने ट्विटर पर डैगर परिवार स्कूल बारामूला द्वारा जारी परिपत्र की प्रति भी संलग्न की है। 

ये भी पढ़ेंः जब पाकिस्तान में अपने लोगों की बहा खून तो भड़क उठा चीन, बोलाः कीमत चुकाएंगे कराची विस्फोट के अपराधी


गौरतलब है कि स्कूल के प्रधानाचार्य ने सोमवार को हिजाब को लेकर कर्मचारियों को परिपत्र जारी किया, ताकि छात्रों को सुखद माहौल मिल सके। परिपत्र में कहा गया, स्कूल के कर्मचारियों का मुख्य उद्देश्य सभी छात्रों का पूर्ण संभव विकास प्रदान करना है। इसलिए, छात्रों के साथ विश्वास स्थापित किया जाना चाहिए ताकि वे सुखद माहौल अनुभव कर सकें। कर्मचारियों को निर्देश दिया जाता है कि वे स्कूल संचालन के दौरान हिजाब पहनने से बचें। ताकि छात्र सहज महसूस कर सकें और शिक्षकों और कर्मचारियों के साथ बातचीत कर सकें।