पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी(पीडीपी) अध्यक्ष एवं जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उनकी पुत्री इल्तिजा मुफ्ती को शुक्रवार को यहां उनके गुपकार आवास पर नजरबंद कर दिया गया। महबूबा ने कहा कि उन्हें फिर गैरकानूनी रूप से हिरासत में लिया गया है और पुलवामा में वहीद-उर-रहमान पार्रा के परिवार से मिलने की अनुमति नहीं दी गयी। इल्तिजा को भी नजरबंद किया गया है।

पार्रा पीडीपी का युवा नेता है और उसे राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने कथित रूप से आतंकवादियों का समर्थन करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी के मंत्रियों और समर्थकों को कश्मीर के किसी भी कोने में जाने की इजाजत है , लेकिन केवल उनके मामले में ही सुरक्षा की समस्या है। 

नेशनल कांफ्रेंस उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने मुफ्ती को नजरबंद किये जाने की निंदा की है। पीडीपी के प्रवक्ता ताहिर सईद ने मुफ्ती के आवास के बाहर संवाददाताओं से कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री को नजरबंद कर लिया गया है और पार्टी कार्यकर्ताआं को अंदर जाने तथा उनसे मिलने नहीं दिया जा रहा है।