शिलोंग  । अब मेघालय चुनाव की  तैयारी जोरों पर चल रहीं है। इसलिए भाजपा एक बार फिर राज्य  में सत्ता में आने के लिए मोदी  लहर पर बैकिंग कर रहीं है । हालांकि कांग्रेस ने इस विचार को खारिज कर दिया है कि आगामी राज्य चुनाव में प्रधान मंत्री का कोई  प्रभाव पड़ेगा । 

वास्तव में राज्य में गौमांस पर अपना रुख रखने के लिए भाजपा को  काफी प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा है । हालांकि मेघालय की आबादी की  अधिकांश जनसंख्या नागालैंड, मिजोरम और अरुणाचल पदेश की  तरह गोमांस की खपत करती है ।

केन्द्र सरकार ने देश भर में बीफ प्रतिबंध को लागू  करने को योजना बनाई है। जिसके कारण भाजपा की तस्वीर मेघालय में भगवा पार्टी के रूप में बन गई है  । क्योंकि इसके चलते पार्टी  से  कई नेताओं ने खुलेआम बगावत कर दी है और उन्होंने पार्टी हाईकमान के खिलाफ गौमांस त्योहारों कां आयोजन किया । 

मेघालय कांग्रेस के अध्यक्ष डी डी लापांग ने कहा कि मोदी लहर राज्य में काम नहीं करेगी । मुझे नहीं लगता कि मोदी की लहर यहां  काम करेगी । राज्य के पांच बार  मुख्यमंत्री रह चुके लापांग ने कहा कि उन्हें 2018  विधानसभा चुनाव में भाजपा या  किसी अन्य पार्टी से कोई खतरा नहीं दीखता । अनुभवी नेता को कांग्रेस की जीत पर पुरा भरोसा है

क्योंकि उन्हें राज्य में कांग्रेस पार्टी के खिलाफ कोई भी मजबूत प्रतिद्वंद्वी नहीं दिख रहा । लापांग ने दावा किया कि उनकी पार्टी एक बार फिर सता में आ जाएगी । उन्होंने पिछले रिकॉर्डो  को  देखते हुए कहा कि कोई भी मजबूत प्रतिद्वंद्वी हमारे खिलाफ नहीं है । 

लेकिन यह कहना बहुत जल्दी  है कि कांग्रेस इस समय कितनी शीट प्राप्त करेगी । मैं अन्य पार्टियों के प्रदर्शन के बारे में नहीं कह रहा हूँ,  लेकिन पिछले  रिकॉर्डो से  पता चलता है कि कांग्रेस हमेशा मजबूत रही है और यह एक सबसे बड़ी  पार्टी के रूप में उभरा है । वर्तमान मुख्यमंत्री मुकुल संगमा  मेघालय में 30 विधायकों  को कांग्रेस सरकार की अध्यक्षता कर रहे है । जिसमें अध्यक्ष डीडी लापांग भी शामिल हैं ।