शिलोंग । शिक्षा के निजीकाण के  सरकार के कथित निर्णय का पुरजोर विरोध करते  हुए मेघालय कालेज शिक्षक संघ (एमसीटीए) ने इसे एक खतरनाक कदम करार दिया है । संघ ने  सरकार  पर शिक्षा के मामले में लापरवाही  एवं उदासीन रवैया अपनाने का भी आरोप लगाया है।

संघ के अध्यक्ष डा बीएच भूआम ने कहा कि शिक्षा के निजीकरण का प्रयास समाज पर नकारात्मक असर डालेगा। 

सरकार का यह प्रयास यूजीसी व एआईसीटीई जैसी संस्थाओं को खत्म करने की साजिश है। संघ ने सरकार के इस कथित प्रयास के विरोध में  आगामी 12 जुलाई को  देशव्यापी रूप में न्याय  दिवस मनाने का निर्णय भी लिया है।