मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने बांग्लादेश जाने का ऐलान किया है जिसकी पीछे की वजह आर्थिक है। संगमा आज यानी 5 नवंबर से अपनी बांग्लादेश यात्रा शुरू कर रहे हैं। मुख्यमंत्री अपनी यह यात्रा सड़क मार्ग से कर रहे हैं जहां उनके साथ 25 अन्य सदस्य भी जा रहे हैं। उनका बांग्लादेश जाने के पीछे का मकसद इन क्षेत्र में आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है।

संगमा ने प्रधानमंत्री का वो वीडियो भी शेयर किया है तथा कहा 'कि यह उनकी एक्ट ईस्ट पॉलिसी है। मेघालय और बांग्लादेश की सीमा एक दूसरे से मिलती है जिसकी लंबाई 443 किलोमीटर है। ऐसे में इस क्षेत्र में टूरिज्म, फूड प्रोसेसिंग, ट्रेड और एजूकेशन में अपार संभावनाएं हैं। यह यात्रा बांग्लादेश के साथ जुड़ने के लिए एक पहल है।'

उन्होंने यह भी कहा कि सड़क मार्ग से यह यात्रा करने के पीछे का मकसद यह था कि पूर्वोत्तर भारत के क्षेत्र के बारे में बांग्लादेश क्या महसूस करता है यह जताना है। इस यात्रा से दोनों देशों के बीच संबंधों में मजबूती आएगी। यह चार दिन की यात्रा है वेस्ट गारो हिल्स जिले के तुरा में खत्म होगी। अपनी इस यात्रा के दौरान संगमा बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, कैबिनेट मंत्रियों, किसानो, एंटरप्रेन्योर्स तथा छात्रों से मुलाकात करेंगे।

बताया गया है कि भारत और बांग्लादेश के बीच 10 बिलियन डॉलर का व्यापार होता है जिसमें मेघालय का हिस्सा महज 1 फीसदी है। जबकि यह राज्य इस देश के साथ सबसे लंबी सीमा रेखा शेयर करता है।