मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने राज्य के 12वें मुख्यमंत्री का कार्यभार संभालने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से यहां मुलाकात की। संगमा के साथ उनके मेघालय डेमोक्रेटिक गठबंधन के साझेदार एवं कैबिनेट मंत्रियों ने राज्य की समक्ष आने वाली चुनौतियों पर मोदी के साथ चर्चा की। यह बैठक लगभग 25 मिनट तक चली, जिसमें मुख्यमंत्री ने 14वें वित्त आयोग में बदलाव के बाद योजना के आवंटन के बारे में प्रधानमंत्री को जानकारी दी।


मुख्यमंत्री ने कहा कि हम अनुरोध करते हैं फिर से आवंटन किये जाने चाहये और इन परियोजनाओं को फिर से पुनर्जीवित किया जाना चाहिये क्योंकि पूर्वोत्तर के राज्य बुहत छोटे हैं। राज्य की विकास परियोजनाओं के लिए यह धन पर्याप्त नहीं है और इसे बढ़ाने की जरुरत है। हम चाहते हैं कि इस आवंटित राशि को फिर से बढ़ाना चाहिये।


संगमा ने प्रधानमंत्री से राज्य का आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए केन्द्रीय सहायता की मांग करते हुए राज्य के वित्तीय बोझ के बारे में जानकारी दी। संगमा ने प्रधानमंत्री से असम के साथ लंबे समय से लंबित अंतरराज्यीय सीमा विवाद पर हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया। राज्य के लोक निर्माण विभाग (सड़क) मंत्री प्रेस्टोन त्सांग, स्वास्थ्य मंत्री ए एल हेक, परिवहन मंत्री एस धर, खेल एवं युवा मामलों के मंत्री बी लिंगदोह सहित अन्य लोग मुख्यमंत्री के साथ उपस्थित रहे।